दीपक ने किया भविष्य उजियारा

पंजाब के दीपक गुप्ता एक ऐसे दूध व्यवसायी है जिन्होंने डेयरी उद्योग में काफी नाम कमाया है। दीपक गुप्ता ने अपने सपने को पूरा करने के लिए सिंगापुर में स्थापित करियर को छोड़ दिया और स्वदेश लौट आए। यहां लौटकर उन्होंने डेयरी का अपना काम शुरू किया। काम में वे इस तरह रम गये की दो वर्ष में ही हिमालयन क्रीमरी नाम की कंपनी बनाकर अपने सपने को मुकाम देने में सफल हो गये। दीपक गुप्ता कहते हैं कि मुझे सिंगापुर में स्थापित करियर छोड़ने का कोई अफसोस नहीं है। उस करियर से ज्यादा सुख मुझे अपने इस व्यवसाय में मिल रहा है।

दीपक ने 20 एकड़ जमीन में डेयरी स्थापित की है जिसमें होल्सटीन फ्रीजिएन तथा जर्सी नस्ल की लगभग 350 से ज्यादा गायें हैं।
उन्होंने कहा कि दूध में मिलावट होना या दूध का दूषित होना आम बात है लेकिन मेरा सपना था कि मैं उपभोक्ताओं को बिल्कुल शुद्ध दूध उपलब्ध कराऊं जिसमें किसी भी प्रकार की मिलावट ना हो और वह दूषित ना हो। उन्होंने कहा कि यह नया कॉन्सेप्ट नहीं है बल्कि दुनिया भर में ‘फार्म टू टेबल’ डेयरी कारोबार के नाम से काफी प्रचलित है जिसे उपभोक्ता काफी पसंद भी कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि उनकी डेयरी में दूध को हाथ से छुआ भी नहीं जाता और सीधे कोल्ड स्टोरेज में स्टोर किया जाता है। इसके बाद दूध को रेफ्रिजरेटेड ट्रकों के जरिये उपभोक्ताओं को सप्लाई किया जाता है। उन्होंने कहा कि गायों के चारे के लिए वह फार्म में जैविक पद्धति से उगे गेहूं और सब्जियों का इस्तेमाल करते हैं। गायों के वेस्ट का इस्तेमाल कर बायोगैस और उर्वरक भी तैयार किया जाता है। इस तरह डेयरी व्यवसाय से दीपक गुप्ता लाखों रूपया कमा रहे हैं।   

More on this section