Fasal Krati

नीम्बू की खेती से बदलती तकदीर...

Last Updated: November 12, 2018 (02:23 IST)

पारंपरिक खेती से किसान अब ऊब गया है। एक बार में जमकर लागत और मेहनत से वह लाखों रुपये की आमदनी कर लेना चाहता है। खेती की वैज्ञानिक विधि से अपनी तकदीर बदलने की लालसा लिए कई युवाओं ने नए प्रयोग को अपने सपने को साकार करने की ठान ली है। कुछ ऐसी ही प्रेरक कहानी कुंडा तहसील क्षेत्र के कुशाहिल डीह गांव के निवासी किसान आशीष सिंह की है।

दरअसल, तीन साल पहले तक आशीष का चार बीघे खेत वीरान पड़ा था। आशीष ने मन में ठान लिया कि इसी ऊसर जमीन पर वह अपनी मेहनत से कुछ करके दिखाएंगे। फिर क्या था, उनकी मेहनत रंग लाई और उस चार बीघे में नीबू का बगीचा तैयार कर दिया। तीन वर्ष तक उस बगीचे की देखभाल कर लगाए गए नीबू के पौधों की ¨सचाई गुड़ाई कर उनको पानी देता रहा। आखिर आशीष का दिन लौटा और उसके द्वारा की गई नींबू की खेती में लगाए गए पौधे अब उसे हर वर्ष पांच लाख रुपये से अधिक आमदनी दे रहे हैं, जो उसकी तीन वर्ष की मेहनत से कई गुना ज्यादा है। आशीष भी और किसानों की तरह पहले गेहूं और धान जैसी फसलें उगाते थे। नाममात्र को खाने भर के अन्न का इंतजाम हो पाता था। परंपरागत खेती को सबसे ज्यादा नुकसान नीलगाय एवं छुट्टे सांड़ों से था।

आशीष ने कौशांबी जनपद के केशरिया गांव के रहने वाले अपने मामा दिनेश तिवारी से नीबू की खेती का गुर सीखा। आशीष के खेत में अब नीबू के हजारों पेड़ हैं और सभी नीबू से लदे हैं। फिलहाल नींबू की खेती से आशीष की अच्छी कमाई देख उनके चाचा रवीशंकर मिश्रा व बुलाकीपुर प्रधान मिथिलेश मौर्या ने भी नींबू की खेती करना शुरू कर दिया है। कई और युवा किसानों ने भी आशीष की राह अपनाने का मन बना लिया है। आशीष ने बताया कि नीबू की फसल की बुवाई भी इतनी आसान नहीं है। इसकी बुवाई करते समय काफी सावधानियां बरतने की जरूरत होती है। जिन किसानों को लगता है कि उनके क्षेत्र में नमी है और मिट्टी भी थोड़ी गीली रहती है। मिट्टी में पानी ठहर जाता है तो ऐसे में सावधान रहने की जरूरत होगी। कृषि विज्ञान केंद्र कालाकांकर के कृषि वैज्ञानिक डा. सुधाकर भी मानते हैं कि नीबू की खेती किसानों के लिए काफी लाभदायक सौदा है। जिस एक एकड़ जमीन पर खेती से किसान चंद हजार रुपए कमा पाते हों, वहां पर नींबू की खेती से वह लाखों कमा सकते हैं। कम लागत में अधिक मुनाफा देती है.

आशीष मिश्रा अपने अनुभवों से किसानों को नीबू की खेती करने की सलाह देते हैं। बताते हैं कि नीबू का पौधा 15 से 20 रूपए में आसानी से मिल जाता है। इसकी रोपाई में भी ज्यादा लागत नहीं आती और न ही ज्यादा खाद की जरूरत होती है। तीन साल में नीबू का पेड़ तैयार होकर फल देने लगता है। इसकी ज्यादा देखभाल भी नहीं करनी पड़ती। इसे कोई जानवर नहीं खाता है। ऐसे में किसानों के लिए नीबू की खेती काफी लाभदायक है। नीबू का फल बेचने के लिए कहीं बाहर जाने की जरूरत नहीं पड़ती। यहां के स्थानीय बाजार के व्यापारियों द्वारा आसानी से खरीद लिया जाता है। गर्मियों के दिनों में नींबू की मांग बढ़ जाती है। ऐसे में उसका दाम भी बढ़ जाता है। इस बार गर्मी के मौसम में 120 रुपए किलो तक नींबू की बिक्री हुई है।

- कृषि विज्ञान केंद्र कालाकांकर


MORE ON THIS SECTION


This scientist got Limca Book of Record for most flowers

सर्वाधिक फूल खिलाने के लिए इस वैज्ञानिक को मिला लिम्का बुक ऑफ रिकार्ड

क्या कभी आपने एक पौधे में 500 से ज्यादा फूल देखे हैं। अगर नही तो हम आपको एक ऐसे वैज्ञानिक के बारे में बताने जा रहे हैं जिन्होंने गेंदे के एक पौधे में 865 फूल खिलाएं हैं। इतना ही नहीं इन फूलों को कारण …

Kushika and Kanika are the hallmarks of organic farming

ऑर्गेनिक खेती की पहचान हैं कुशिका और कनिका

आज के युवा शहरी चमक धमक से प्रभावित हो कर शहरों में बसने की चाह में गांवों से तेजी से रलायन कर रहे हैं, लेकिन आज भी कुछ ऐसे भी युवा हैं जो महानगरों की चमक-धमक और अच्छी ख़ासी नौकरी और समस्त सुख सुविधाओं…

Abhishek is earning millions by doing organic farming

जैविक खेती कर लाखों की कमाई कर रहे हैं अभिषेक

खेती किसानी का काम घाटे का सौदा माना जाता रहा है। यही कारण है कि किसान अपने बेटों को किसानी नहीं करने देना चाहते। किसान भी अपने बेटों को पढ़ा लिखा कर अच्छे पद पर देखना चाहते हैं। इसी का नतीजा है कि गत्…

Bhajan Lal Kamboj teaches the lessons of water conservation

पानी संरक्षण का पाठ सिखाते हैं भजन लाल कंबोज

करनाल धरती से पानी का लगातार दोहन हो रहा है और जल स्तर लगातार नीचे गिरता जा रहा है। जिसके चलते गर्मी आते ही पानी की समस्या शुरू हो जाती है। हरियाणा के डार्क जोन में आने वाले जिलों के लिए पानी का संकट …

Horizontal Ad large