छोटे किसान का बड़ा कारनामा

आर्थिक रूप से सफल बनने के लिए, एक किसान को मौजूदा बाजार प्रवृत्ति के अनुरूप अपने फसल  पैटर्न को बदलना होगा। किसानों को खेती को ज्यादा लाभकारी बनाने के लिए उसे बाजार के अनुरूप सही फसलों की खेती करने की योजना बनानी चाहिए तभी उसकी आर्थिक स्थिति सुधर सकती है।

यही काम करते तमिलनाडु राज्य के धर्मापुरी जिला निवासी मुथु ने किया है।

दरअसर मुथु भूमि के मामले में एक छोटे किसान हैं लेकिन उनकी आमदनी उन्हें बड़ा किसान बनाती है।  मुथु अपनी आधे एकड़ की भूमि में चमेली और नींबू के फसल उगाते हैं और ज्यादा मुनाफा कमाते हैं। मुथु की वार्षिक आय 5 लाख के लगभग है।

उन्होंने कहा कि मैंने 25 नींबूओं पौधों लगाया है जिनको गर्मियों के दौरान काट दिया जाता है और बाजार में नींबूओं की अच्छी मांग होती है। चूंकि हमारे फल गोल, रसीले, बड़े, धब्बों से मुक्त, दिखने में चमकदार होते हैं इसलिए उनकी कीमत भी बाजार में अधिक मिलता है। मैं एक वर्ष में प्रत्येक पेड़ से लगभग 5,000 फल लेता हूं। प्रत्येक नींबू स्थानीय बाजार में 2 से 2.5 रूपये में बेचा जाता है और मुझे 2000 से 2500 रूपये नियमित आय प्राप्त होती है। उन्होंने कहा कि सीज़न के दौरान चमेली के फूलों की दर भी बहुत बढ़ जाती है। मुझे चमेली फूलों के लिए 300 रूपये प्रति किलोग्राम की दर मिल जाती है।

उन्होंने बताया कि सभी फसलें व्यवस्थित रूप से उगाई जाती हैं। फसलों पर नियमित रूप से मछली के हार्मोन का छिड़काव किया जाता है। 10 लीटर खट्टी छाछ में लगभग 10 किलो मछली का कचरा मिलाया जाता है फिर इसे एक स्प्रेयर के माध्यम से फ़िल्टर और स्प्रे किया जाता है। उन्होंने कहा कि नीम और यूरेका पत्तियों को इकट्ठा कर उन्हें  कुचला जाता है और 10 लीटर गोमूत्र और खट्टे छाछ में मिलाया जाता है और 10- 20 दिनों के लिए सड़ने के लिए छोड़ दिया जाता है। जब यह तैयार हो जाता है तो फसलों पर जैव कीटनाशक के रूप में छिड़काव किया जाता है। मुथु का कहना है कि सिट्रस पर चमकदार उपस्थिति इसी हार्मोन के कारण है, जो पेड़ों को कीटों के हमलों से बचाता है।

मुथु ने बताया की सिट्रस से मुझे 50,000 की मासिक आय प्राप्त होती है और इसके फूलों से मुझे अतिरिक्त आय प्राप्त होती है। हालांकि यह केवल फूलों के मौसम के दौरान होती है। एक साल में मैं 6 से 7 लाख रुपये कमाता हूं। यह केवल इसलिए संभव है क्योंकि मैं व्यक्तिगत रूप से भूमि की देखभाल करता हूं। मैं श्रमिकों पर निर्भर नहीं हूं। कृषि में रिमोट कंट्रोल काम नहीं करता है। कुछ जगहों पर मालिक सभी काम करने के लिए मजदूरों पर निर्भर है। यह समझदारी नहीं है। अगर आप कृषि में पैसा कमाना चाहते हैं तो आपका उपस्थित होना जरूरी है।

वह अपने सिट्रस गार्डन में इंटरक्रेन के रूप में ऑफ-सीजन मूंगफली उगाते हैं, जिसे जनवरी के दौरान हार्वेस्ट किया जाता है। व्यवस्थित रूप से उगाए गए तीन-बीज वाले नट आकार में बड़े होते हैं और स्वाद में भी अच्छे होते हैं। किसान 3,000 रुपये प्रति बैग के हिसाब से नट खरीदने के लिए उसके खेत में आते हैं। इस साल उन्होंने शुद्ध लाभ के रूप में लगभग 30,000 रुपये कमाए, जिसके लिए उन्होंने केवल 3,000 रुपये खर्च किए। किसान ने वर्तमान में बड़े पैमाने पर खेती करने के लिए अपने गांव के पास कुछ जमीन खरीदा है।

मुथु किसानों के लिए एक मिसाल है जिनसे किसान खेती करने के गुर सीखने आते हैं। 

More on this section