Fasal Krati

Success Story

January 24, 2020 04:16 IST
बैंक की नौकरी छोड़ शुरु किया जैविक खेती का व्यवसाय

बैंक की नौकरी छोड़ शुरु किया जैविक खेती का व्यवसाय

भारत में प्राचीन समय से ही जैविक खेती का काम होता रहा है लेकिन जैसे-जैसे समय बदलता गया, वैसे ही खेती करने के तरीकों में तेजी से बदलाव आता गया। देश में तेजी से बढ़ती जनसंख्या के लिए किसान अधिक फसल उत्पादन लेने की सोच रहे हैं। इसी चक्कर में किसान अंधाध…

मजदूर जो बन गये सफल किसान

मजदूर जो बन गये सफल किसान

शंकर लाल एक ऐसे किसान हैं जो अन्य किसानों के लिए प्रेरणास्रोत है। 60 वर्षीय शंकर लाल उत्तर प्रदेश के मैनपुरी के मूल निवासी है जो एक समय प्रवासी मजदूर थे। साल में दो बार, फसल मौसम के दौरान वह पंजाब की यात्रा करते थे और वहां खेतों में मजदूरी का काम करत…

फल-फूल की खेती ने दी नई पहचान

फल-फूल की खेती ने दी नई पहचान

हर कोई उद्यमी नहीं बनना चाहता। उद्यमी वही होता है जो नौकरी की बेड़ियां तोड़ने में सफल होता है। हम आपको एक ऐसे व्यक्ति की कहानी बताने जा रहे हैं जिन्होंने अपनी सरकारी नौकरी को छोड़ उद्यमिता की राह पकड़ी। यह कहानी है टिहरी जिले (उत्तराखंड) के जौनपुर ब्…

मोहन सिंह सिसोदिया ने गेहूं के बीज को बनाया आजीविका का साधन

मोहन सिंह सिसोदिया ने गेहूं के बीज को बनाया आजीविका का साधन

मध्य प्रदेश के जिला खरगौन के बैजापुर गाँव में रहने वाले 38 वर्षीय युवा और ऊर्जावान किसान मोहन सिंह सिसोदिया ने अपने परिवार के साथ-साथ खुद के लिए एक मुकाम हासिल किया है। वर्ष 1997 में खरगौन से उच्चतर माध्यमिक स्कूल से पढ़ाई करने के बाद सिसोदिया अपने प…

सर्वोत्तम शहद उत्पन्न करते हैं दर्शन भालारा

सर्वोत्तम शहद उत्पन्न करते हैं दर्शन भालारा

दर्शन भालारा को शहद उत्पादक कहने के बजाय शहद-प्रेमी या फिर स्वास्थ्य-प्रेमी कहें तो उचित होगा। दरअसल दर्शन भालारा एक ऐसे किसान हैं जो उच्च गुणवत्ता वाली कई तरह के शहद का उत्पादन करते हैं। एमबीए की डिग्री प्राप्त करने के पश्चात उनके पास 40 हजार रुपये …

नयी तकनीकों से खेती कर लखपति बना किसान

नयी तकनीकों से खेती कर लखपति बना किसान

मध्य प्रदेश के धार जिले के ग्राम एहमद निवासी 39 वर्षीय राजेश पाटीदार शुरू से ही खेती में कुछ बड़ा करने की चाह रखते थे। उनकी चाह और कड़ी मेहनत के परिणाम स्वरूप उन्होंने अपने आप को साबित किया और वे एक सफल किसान के रूप में उभर गये। राजेश ने बताया कि व…

नौकरी छोड़ सफल किसान बनी वल्लरी चंद्राकर

नौकरी छोड़ सफल किसान बनी वल्लरी चंद्राकर

खेती-किसानी यूं तो पुरुषों का काम माना जाता है लेकिन बिना महिलाओं के सहयोग से कृषि कार्य पूरा नहीं होता। महिलाएं खेती में बढ़ चढ़ कर हिस्सा ले रही हैं। इसी कड़ी में हम आपको एक ऐसी महिला किसान के बारे में बता रहे जिन्होंने इंजीनियरिंग नौकरी छोड़कर खेत…

सर्वाधिक फूल खिलाने के लिए इस वैज्ञानिक को मिला लिम्का बुक ऑफ रिकार्ड

सर्वाधिक फूल खिलाने के लिए इस वैज्ञानिक को मिला लिम्का बुक ऑफ रिकार्ड

क्या कभी आपने एक पौधे में 500 से ज्यादा फूल देखे हैं। अगर नही तो हम आपको एक ऐसे वैज्ञानिक के बारे में बताने जा रहे हैं जिन्होंने गेंदे के एक पौधे में 865 फूल खिलाएं हैं। इतना ही नहीं इन फूलों को कारण इनका नाम लिम्का बुक ऑफ रिकार्ड में दर्ज हुआ है। दर…

ऑर्गेनिक खेती की पहचान हैं कुशिका और कनिका

ऑर्गेनिक खेती की पहचान हैं कुशिका और कनिका

आज के युवा शहरी चमक धमक से प्रभावित हो कर शहरों में बसने की चाह में गांवों से तेजी से रलायन कर रहे हैं, लेकिन आज भी कुछ ऐसे भी युवा हैं जो महानगरों की चमक-धमक और अच्छी ख़ासी नौकरी और समस्त सुख सुविधाओं को छोड़, अपने गांवों की ओर रुख कर रहे हैं। इसी…

जैविक खेती कर लाखों की कमाई कर रहे हैं अभिषेक

जैविक खेती कर लाखों की कमाई कर रहे हैं अभिषेक

खेती किसानी का काम घाटे का सौदा माना जाता रहा है। यही कारण है कि किसान अपने बेटों को किसानी नहीं करने देना चाहते। किसान भी अपने बेटों को पढ़ा लिखा कर अच्छे पद पर देखना चाहते हैं। इसी का नतीजा है कि गत् कुछ वर्षों में तेजी से गांवों से लोग पलायन कर शहर…

पानी संरक्षण का पाठ सिखाते हैं भजन लाल कंबोज

पानी संरक्षण का पाठ सिखाते हैं भजन लाल कंबोज

करनाल धरती से पानी का लगातार दोहन हो रहा है और जल स्तर लगातार नीचे गिरता जा रहा है। जिसके चलते गर्मी आते ही पानी की समस्या शुरू हो जाती है। हरियाणा के डार्क जोन में आने वाले जिलों के लिए पानी का संकट एक गंभीर विषय बन गया है। जिसके ऊपर लगातार केंद्र औ…

जगत राम की जग प्रसिद्धि, लोग लेते हैं सेल्फी

जगत राम की जग प्रसिद्धि, लोग लेते हैं सेल्फी

जहां चाह वहां राह की कहावत को चरितार्थ कर रहे हैं जगत राम। खेती किसानी में ये इतने निपुण हैं कि विदेशी भी इनसे खेती का पाठ सीखने आते हैं। खुद आदिवासियों से सीखकर जड़ों की ओर लौटे जगत राम ने लुप्त बीजों को पुनर्जीवित किया और अपने खेतों को अनूठी प्रयोग…

टैरिस गार्डेनिंग की परिचायक- श्रीमती गायत्री प्रताप

टैरिस गार्डेनिंग की परिचायक- श्रीमती गायत्री प्रताप

महिला होने का मतलब सिर्फ अपने आप को चूल्हे चौके के दायरे में समेटना नहीं होता। महिलाएं चाहे तो घरेलू कामों के इतर भी और कई कामों को कर सकती हैं। कई महिलाएं गृहस्थी का काम करते हुए अन्य कामों को भी अंजाम दे रही है। उन्हीं महिलाओं में एक हैं श्रीमती गा…

खुद की नजरें कमजोर पर लोगों को राह दिखाता है यह किसान

खुद की नजरें कमजोर पर लोगों को राह दिखाता है यह किसान

“अपनी खेती अपना बीज, अपना खाद अपना स्वाद!” का नारा बुलंद करने प्रगतिशील किसान प्रकाश सिंह रघुवंशी को भला कौन नहीं जानता होगा। उत्तर प्रदेश के वाराणसी जिले के तड़िया गांव निवासी 60 वर्षीय प्रकाश सिंह रघुवंशी मात्र 8वीं कक्षा तक पढ़े हैं। वे न सिर्फ़ जैव…

इजरायल तकनीक से खेती कर 1 करोड़ वार्षिक कमाता है यह किसान

इजरायल तकनीक से खेती कर 1 करोड़ वार्षिक कमाता है यह किसान

अगर आपसे यह कहा जाय कि भारत का कोई साधारण किसान अपने गांव में इजरायली तकनीक से खेती कर 1 करोड़ प्रतिवर्ष की कमाई कर रहा है तो शायद आप विश्वास नहीं करेंगे। लेकिन यह सच है। इजरायल की तर्ज पर राजस्थान के एक किसान ने खेती शुरू की है जिसका सालाना टर्नओवर …