कृषि, सहकारिता एवं किसान कल्याण विभाग ने लॉकडाउन के दौरान की गयी गतिविधियों का उल्लेख किया

कोरोना के चलते देशभर में चल रहे लॉकडाउन को देखते हुए किसानों को कोई परेशानी न हो इसके लिए केंद्र एवं राज्य सरकार द्वारा कई कदम उठाए गए। ताकि किसानों को किसी तरीके कोई समस्या न हो। सरकार द्वारा कृषि कार्यों को लॉकडाउन मुक्त किया गया है और कृषि कार्यों को सुविधाजनक बनाने के लिए सरकार और भी कार्य कर रही है।

कृषि, सहकारिता एवं किसान कल्याण विभाग, भारत सरकार लॉकडाउन अवधि के दौरान क्षेत्र स्तर पर किसानों और कृषि गतिविधियों को सुविधाजनक बनाने के लिए कई उपाय कर रही है। सरकार द्वारा कृषि कार्यों को सुविधाजनक और सुगम बनाने के लिए किए गए कार्य निम्नलिखित हैः

24 मार्च से अब तक, लॉकडाउन अवधि के दौरान प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि (पीएम-किसान) योजना के तहत, लगभग 8.89 करोड़ किसान परिवारों को लाभान्वित किया गया है और अब तक 17,793 करोड़ रुपये की राशि जारी की गई है।

कोविड-19 महामारी के कारण मौजूदा स्थिति के दौरान खाद्य सुरक्षा प्रदान करने के लिए, सरकार ने प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना (पीएम-जीकेवाई) के तहत पात्र परिवारों को दाल वितरित करने का निर्णय लिया है। इसके अंतर्गत अब तक लगभग 107,077.85 मीट्रिक टन दाल राज्यों/केंद्रशासित प्रदेशों को भेज दी गई हैं।
 
पीएमजीकेवाई के तहत, अंडमान और निकोबार, आंध्र प्रदेश, चंडीगढ़, छत्तीसगढ़, दमन और दीव, गोवा, गुजरात आदि राज्यों/संघ शासित प्रदेशों ने लाभार्थियों को दालों के वितरण की शुरुआत कर दी है। मध्य प्रदेश, पंजाब, राजस्थान, तेलंगाना, पश्चिम बंगाल, उत्तर प्रदेश और दिल्ली जैसे अन्य राज्यों में आंशिक स्टॉक प्राप्त कर लिया है और इन राज्यों में योजना के अनुसार चरणबद्ध तरीके से लाभार्थियों को वितरण शुरू किया जाएगा।
 
पीएमजीकेवाई के तहत दालों का वितरण 36 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में फैले लगभग 19.50 करोड़ परिवारों को लाभान्वित करने के लिए है। इसके अलावा सरकार और भी कदम उठा रही है ताकि किसानों को लॉकडाउन में कोई समस्या न हो।  

More on this section