Fasal Krati

वैज्ञानिकों ने खोजी चने की जेनेटिक कोड

Last Updated: May 09, 2019 (23:44 IST)

कृषि वैज्ञानिकों ने चने की जेनेटिक कोड की खोज की है, इससे जलवायु परिर्वतन के अनुकूल अधिक उत्पादन देने वाली किस्म को तैयार करने में मदद मिलेगा। जेनेटिक कोड से किसानों को चना की ऐसी किस्म मिल सकेंगी, जो प्रतिकूल परिस्थितियों में भी ज्यादा उत्पादन दे सकेंगी। चना भारत की प्रमुख दलहनी फसल है, अत: चना का उत्पादन बढ़ने से दालों में आत्मनिर्भर होने में मदद मिलेगी।

डॉ त्रिलोचन महापात्रा, सचिव, कृषि अनुसंधान और शिक्षा विभाग (डीएआरई) और महानिदेशक, भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आईसीएआर) ने कहा कि यह वैश्विक कृषि अनुसंधान के लिए एक महत्वपूर्ण योगदान है और ये अद्वितीय वैज्ञानिक समाधान दुनिया की कृषि सम्बंधित समस्याओं को कम करने में मदद करेंगे।

इंटरनेशनल क्रॉप रिसर्च इंस्टीट्यूट फॉर दी सैमी एरिड ट्रॉपिक्स (आईसीआरआईएसएटी) के महानिदेशक डॉ पीटर कार्बेर्री ने कहा की कि इस नई खोज से कृषि प्रजनकों  को विविध जर्मप्लाज्म और जीन का उपयोग करके जलवायु-परिवर्तन के लिए तैयार चने की नई किस्म विकसित करने में मदद मिलेगी, जो विकासशील देशों में कृषि उत्पादकता में वृद्धि और स्थिरता में महत्वपूर्ण योगदान होगा।

डॉ राजीव वार्ष्णेय जोकि इस परियोजना के प्रमुख और आईसीआरआईएसएटी के रिसर्च प्रोग्राम डायरेक्टर जेनेटिक गेन्स (आरपीजीजी) एवं डायरेक्टर सेण्टर ऑफ एक्सीलेंस इन जीनोमिक्स एंड सिस्टम्स बायोलॉजी (सीईजीएसबी), ने बताया की “जीनोम-वाइड एसोसिएशन के अध्ययन से हमें 13 महत्वपूर्ण लक्षणों के लिए जिम्मेदार जीन्स की पहचान करने में सफलता मिली है। उदाहरण के लिए, हमने आरईन1, बी-1, 3-गलूसैंस, आरईएफ6 जैसे जीन्स की खोज की, जो फसल को 380सी तक तामपान सहन करने और उच्च उत्पादकता प्रदान करने में मदद कर सकता है।

वैश्विक स्तर के 21 शोध संस्थानों के कृषि वैज्ञानिको ने 45 देशों से मिली चने की 429 प्रजातियों का सफलतापूर्वक अनुक्रमण करके सूखे और गर्मी के प्रति सहिष्णुता रखने वाले नए-नए जीन की खोज की है। टीम का नेतृत्व हैदराबाद स्थित इंटरनेशनल क्रॉप्स रिसर्च इंस्टीट्यूट फॉर सेमी-एरिड ट्रॉपिक्स (आईसीआरआईएसएटी) के डॉ. राजीव वार्ष्णेय ने किया। इस टीम में भारतीय अनुसंधान परिषद के दो महत्वपूर्ण संस्थानों भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान और भारतीय दलहन अनुसंधान संस्थान के वैज्ञानिकों के अलावा 19 अन्य संस्थानों के वैज्ञानिक सम्मिलित हैं। यह जानकारी आर एस राना ने दी है।


MORE ON THIS SECTION


Floating farm: new concept of agriculture

फ्लोटिंग फ़ार्मः कृषि की नई अवधारणा

डच कंपनी के प्रयास से दुनिया की पहली फ्लोटिंग फ़ार्म यानी तैरता खेत तैयार हो रहा है जिसमें डेयरी का काम किया जाएगा। अन्य शहरी फर्मों की तरह, यह 1,200-वर्ग-मीटर (4,000-वर्ग-फुट) में बनाया जाएगा और यह त…

Four new varieties of developed Bt cotton

विकसित हुए बीटी कपास के चार नये किस्म

10 वर्षों की कड़ी मेहनत के बाद केंद्रीय कपास अनुसंधान संस्थान, नागपुर (सीआईसीआर) ने चार अलग-अलग सीधी किस्मों में क्राई 1एसी जीन विकसित करके कपास की चार बीटी आधारित सीधी किस्मों को विकसित कर दिया है।

Punjab's cane farmers also delayed payment of 25 rupees

पंजाब के गन्ना किसानों को 25 रुपये के भुगतान में भी देरी

पंजाब में गन्ने की पेराई अंतिम चरण में है लेकिन राज्य की चीनी मिलों के साथ ही राज्य सरकार द्वारा किए जाने वाला भुगतान भी नहीं मिलने से किसानों में नाराजगी है। गन्ना बकाया को लेकर राज्य के किसानों द्वा…

Organizing seminar to grow mushroom

मशरूम उगाने हेतु संगोष्ठी आयोजन

सर्दी के मौसम में मशरुम हर जगह उपलब्ध होता है, लेकिन गर्मी और बरसात के मौसम में यह मुश्किल से मिलता है, और मिलता भी है तो बहुत महंगा। जो लोग इसे खाना पसंद करते हैं या स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्याओं के क…

Horizontal Ad large