Fasal Krati

बारिश ने तोड़ा 25 वर्षों का रिकॉर्ड

Last Updated: October 03, 2019 (06:45 IST)

भारतीय मौसम विभाग के एक आंकड़ें में यह खुलासा किया गया है कि जून-सितंबर मॉनसून सीज़न के दौरान हुई बारिश ने 25 वर्षों का रिकॉर्ड तोड़ दिया है। आंकडे में कहा गया है कि  जून में सूखे की स्थिति थी लेकिन जून के उत्तरार्ध में शुरू हुई जो सितंबर तक खूब हुई। इस सीजन में 10 प्रतिशत अधिक वर्षा रिकॉर्ड किया गया जिसके कारण कई प्रदेशों में बाढ़ की स्थिति उत्पन्न हो गई।

विशेषज्ञों का कहना है कि अच्छे मानसून का मतलब अच्छी कृषि है। मानसून का समग्र प्रदर्शन यह दर्शाता है कि खरीफ फसलों की पैदावार अच्छी होगी और देर से आने वाली वर्षा सर्दियों में बोई जाने वाली फसलों की बम्पर पैदावार के लिए जमीन तैयार करता है। अच्छा मानसून होने से जलाशयों में बहुत अधिक पानी रहता है इसलिए फसलों की सिंचाई भी प्रचुरता से हो जाती है। इससे साथ ही पेयजल और बिजली उत्पादन के लिए पर्याप्त आपूर्ति मिलेगी। इस वर्ष का मानसून असामान्य रहा है, जिससे मुंबई, पुणे और पटना जैसे शहरों और साथ ही मध्य और पश्चिमी भारत के कई हिस्सों में बाढ़ की स्थिति हुई। तीव्र वर्षा के कारण तिलहन की फसल प्रभावित हुई है।

आधिकारिक तौर पर दिखाए गए आंकड़ों के मुताबिक, फसल की पैदावार पिछले साल के स्तर के बराबर है। कृषि मंत्रालय के पहले अनुमान के मुताबिक इस सीजन में खाद्यान्न का कुल उत्पादन 140.57 मिलियन टन होने का अनुमान है।


MORE ON THIS SECTION


10th National Seed Congress-2019 held

10वां नेशनल सीड कांग्रेस-2019 आयोजित हुआ

भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान, पूसा, नई दिल्ली में 10वां नेशनल सीड कांग्रेस-2019 आयोजित किया गया। कार्यक्रम का थीम “किसानों की समृद्धि के लिए गुणवत्तायुक्त बीज” था। थीम उद्देश्य के साथ हुई थी। इस कार्…

Cooperatives will play a vital role in making 5 trillion economy

5 ट्रिलियन अर्थव्यवस्था करने में सहकारी समितियों की रहेगी अहम भूमिका

तीन दिवसीय भारत अंतर्राष्ट्रीय सहकारी व्यापार मेले के उद्घाटन के मौके पर कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा है कि अगले पांच वर्षों में भारत को यूएसडी 5 ट्रिलियन अर्थव्यवस्था बनाने में कृषि और संबद्ध…

The possibility of decreasing production of soybeans

सोयाबीन के उत्पादन में कमी की संभावना

भारी बारिश व बाढ़ की स्थिति होने से वर्ष 2019 में भारत में सोयाबीन का उत्पादन पिछले वर्ष की अपेक्षा लगभग 18 प्रतिशत घटकर 9 मिलियन टन होने की संभावना है। कहा जा रहा है कि शीर्ष तीन उत्पादक राज्यों में …

India will set quality standards for global potato trade

वैश्विक आलू व्यापार के लिए गुणवत्ता मानक निर्धारित करेगा भारत

भारत द्वारा प्रस्तावित गुणवत्ता मानक आलू में वैश्विक व्यापार पर लागू होंगे। खाद्य और कृषि संगठन और विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा संयुक्त रूप से स्थापित एक अंतर्राष्ट्रीय खाद्य मानक निकाय कोडेक्स एलेमें…

Horizontal Ad large