अम्फान का कोहराम, बरबाद हुए आम

पश्चिम बंगाल में पहले से ही कोविड-19 के चलते आम का व्यापार बुरी तरह प्रभावित था लेकिन सुपर साइक्लोन अम्फान के की तबाही के बाद इसे और बड़ा झटका लगा है। बंगाल के मुख्य आम क्षेत्रों जैसे दक्षिण 24 परगना, मुर्शिदाबाद और मालदा में आम क्षेत्रों पर तुफान का तांडव हुआ जिसके चलते आम की बड़ी मात्रा में फसलें मष्ट हो गई।

लगभग 2 मिलियन टन के अपने वार्षिक उत्पादन के साथ, पश्चिम बंगाल भारत में लगभग 22 मिलियन टन आम उत्पादन में सबसे बड़े योगदानकर्ताओं में से एक है। पश्चिम बंगाल में मालदा, मुर्शिदाबाद और दक्षिण 24 परगना जैसे जिलों में आम के सभी उत्पादक क्षेत्र औद्योगिक रूप से पिछड़े हैं और मौसमी फल पर ही अत्यधिक निर्भर हैं।

एक बाग मालिक ने शौकत अली ने कहा कि आम की फसल के दौरान लॉकडाउन ने इस सीजन की बिक्री को बर्बाद कर दिया है। अब लेकिन अम्फान के चलते और ज्यादा नुकसान हुआ है। अली जैसे 50,000 उत्पादकों के अलावा, अकेले मालदा जिले में अन्य 2.5 लाख लोग आम पर निर्भर हैं।

More on this section