टिड्डियों के खात्में के लिए जुटा विभाग- त्रिलोचन महापात्रा

भारतीय अधिकारी किसानों को टिड्डियों के झुंडों से लड़ने के लिए एक कीटनाशक छिड़काव अभियान चलाने में मदद कर रहे हैं।

भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के महानिदेशक त्रिलोचन महापात्रा ने जानकारी देते हुए बताया कि टिड्डियों को मारने के लिए 700 ट्रैक्टर, 75 दमकल और लगभग 50 अन्य वाहन कीटनाशकों के छिड़काव के लिए लगे हुए हैं। इसके अतिरिक्त कई ड्रोन भी लगाए जाएंगे।

महापात्रा ने कहा कि इस समय जितने टिट्डी जल हैं उन्हें नियंत्रित किया जा सकता है लेकिन अगर इनका आना जारी रहता है तो यह एक बड़ी समस्या होगी। उन्होंने कहा कि मौजूदा छिड़काव अभियान से प्रभाव कम होगा और अच्छी बात यह है कि फसल की कटाई ज्यादातर खत्म हो गई हैं।

उन्होंने जानकारी देते हुए कहा कि छह राज्यों में लगभग 42,000 हैक्टेयर कपास, ग्रीष्मकालीन दलहन और सब्जियों की फसलें छह टिड्डियों से प्रभावित हुई हैं। कृषि मंत्रालय के अनुसार, मानसून के मौसम में किसान 106 मिलियन से अधिक हेक्टेयर में चावल, दालें, कपास, गन्ना और सोयाबीन उगाते हैं।

कृषि मंत्रालय के अनुसार, राजस्थान और पंजाब के कुछ क्षेत्रों में 14,299 हैक्टेयर में टिड्डियों को नियंत्रित किया गया है।

More on this section