Fasal Krati

करनाल संस्थान ने विकसित किया कम पानी में अच्छी पैदावार देने वाली गेहूं की किस्में

Last Updated: August 13, 2019 (04:07 IST)

भारतीय गेहूं और जौ अनुसंधान संस्थान के वैज्ञानिकों ने तीन उच्च उपज वाले गेहूं की किस्मों, डीबीडब्ल्यू 243, डीबीडब्ल्यू 166 और डीबीडब्ल्यू 222 को विकसित किया है। ये किस्में उन क्षेत्रों में वरदान साबित होंगी जहां जल स्तर तेजी से घट रहा है। गेहूं की यह किस्में कम पानी में अच्छी पैदावार देने वाली हैं। सामान्य गेहूं की किस्मों में जहां बुआई से लेकर कटाई तक छः बार सिंचाई करने की आवश्यकता होती है वही इन नई किस्मों में सिर्फ चार सिंचाई की आवश्यकता होगी। वैज्ञानिकों के अनुसार, ये किस्में लगभग 20 प्रतिशत पानी की बचत करेंगी।

अनुसंधान का समर्थन एग्री-कंसोर्टिया रिसर्च प्लेटफ़ॉर्म द्वारा किया गया था और भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद और कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय द्वारा वित्त पोषित किया गया था। डॉ. जीपी सिंह, निदेशक, करनाल संस्थान, डॉ. राज पाल मीणा, डॉ. वेंकटेश कर्णम, रिंकी खोबरा, रमेश कुमार शर्मा और एससी त्रिपाठी ने इन किस्मों को विकसित किया है। इन किस्मों को जल्द ही हरियाणा और पंजाब में खेती के लिए जारी किया जाएगा, जहां भूजल की कमी एक चुनौती है।

डीबीडब्ल्यू 243 प्रति हैक्टेयर 49 क्विंटल, डीबीडब्ल्यू -222, 45 क्विंटल और डीबीडब्ल्यू 166, 46 क्विंटल प्रति हैक्टेयर का उत्पादन करने में सक्षम है। भारतीय गेहूं और जौ अनुसंधान संस्थान के निदेशक डॉ. जीपी सिंह ने कहा कि ये किस्में पीले रतुआ रोग की प्रतिरोधी हैं। उन्होंने कहा कि किसानों को जल्द ही किस्में इस्तेमाल करने को मिलेंगी।


MORE ON THIS SECTION


Rural women changed their lives by forming groups

ग्रामीण महिलाओं ने स्वयं समूह बनाकर बदली जिंदगी

मध्य प्रदेश के दतिया जिले के ग्रामीण क्षेत्र में सक्रिय राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन (एनएलआरएम) ने महिलाओं के सामाजिक और आर्थिक जीवन में बड़े परिवर्तन किए हैं. दतिया में आजीविका मिशन पिछले लगभग चार स…

Successfully concluded FAI's annual seminar

एफएआई का वार्षिक सेमिनार सफलतापूर्ण संपन्न

एफएआई वार्षिक सेमिनार आज समाप्त हो गया। इस वर्ष के सेमिनार का थीम ‘उर्वरक सेक्टर के लिए नया दृष्टिकोण’ विषय को समर्पित किया गया था। इस सेमिनार में 1300 से अधिक प्रतिनिधियों ने भाग लिया जिसमें लगभग 150…

Wheat production may occur at the record level

रिकॉर्ड स्तर पर हो सकता है गेहूं उत्पादन

भारत में गेहूं उत्पादन 2020 में लगातार दूसरे वार्षिक रिकॉर्ड पर जा सकता है। गेहूं और जौ अनुसंधान संस्थान के एक अधिकारी ने कहा कि अच्छी बारिश के कारण गेहूं का क्षेत्र बढ़ा है जिसके कारण हम पिछले साल के…

Farmers disillusioned with potatoes

आलू से किसानों का हुआ मोहभंग

उत्तरी राज्यों में किसान इस बार आलू की कम बुवाई कर रहे हैं। किसान इस रबी मौसम में प्याज, लहसुन और अन्य वैकल्पिक फसलों को पसंद कर रहे हैं। भारत के अधिक उत्पादक राज्यों में हाल के वर्षों में खुदरा और थो…

Horizontal Ad large