Fasal Krati

नई तकनीक से होगा भारतीय कृषि का विकासः एम वेंकैया नायडू

Last Updated: January 13, 2020 (11:11 IST)

देश में तकनीकी नवाचारों को लाने की आवश्यकता को दोहराते हुए, उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने कहा कि नवाचार अर्थव्यवस्था को बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी।

107वीं भारतीय विज्ञान कांग्रेस में बोलते हुए नायडू ने कहा कि भारत की आर्थिक चुनौतियों का समाधान करने के लिए नये दृष्टिकोण के माध्यम से नवाचार पर विशेष ध्यान देने के साथ अनुसंधान और विकास में और अधिक निवेश करने की आवश्यकता है। नायडू ने भारतीय उद्यमियों और कॉरपोरेट्स से देश में अनुसंधान और विकास को बढ़ावा देने के लिए भारतीय शैक्षणिक संस्थानों और विश्वविद्यालयों के साथ सहयोग करने का भी आग्रह किया। उन्होंने उद्यमियों को भारत के प्रगतिशील विकास के लिए आवश्यक कहम उठाने का भी आग्रह किया।

नायडू ने कृषि जरूरतों के लिए भारत को आत्मनिर्भर बनने में मदद करने में एग्रीटेक के महत्व पर भी प्रकाश डाला। नायडू ने कहा कि यह याद रखना चाहिए कि भारत जैसा देश आयातित खाद्य सुरक्षा पर निर्भर नहीं रह सकता है और उसके पास खुद की घरेलू खाद्य सुरक्षा होनी चाहिए। जब तक भारत गंभीरता से एग्रीटेक को अपनाना शुरू नहीं करता, तब तक वह कृषि का व्यवसायीकरण नहीं कर सकता। कृषि मूल्य श्रृंखला में गुणवत्ता और मात्रा दोनों को कैसे बढ़ाया जा सकता है, इस पर जोर देते हुए, उपराष्ट्रपति ने कहा कि वैज्ञानिक अनुसंधान को विभिन्न कृषि गतिविधियों जैसे कि छिड़काव, उपज के बाद की हैंडलिंग, जैसे अन्य कामों के लिए उन्नत मशीनरी बनाने पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए।

एग्रीटेक क्षमताओं को बेहतर बनाने के लिए, देहरादून स्थित यूनिवर्सिटी ऑफ पेट्रोलियम एंड एनर्जी स्टडीज (UPES) ने हाल ही में 'स्मार्ट कृषि स्कूल' स्थापित करने की घोषणा की है। कृषि क्षेत्र में नए समाधान बनाने के लिए संस्थान कृत्रिम बुद्धिमत्ता (एआई), इंटरनेट ऑफ थिंग्स (IoT), बड़े डेटा, ड्रोन प्रौद्योगिकी जैसी अन्य तकनीकों का पाठ्यक्रम विकसित करेगा।

इस समारोह में उपराष्ट्रपति के अलावा कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा भी मौजूद थे। येदियुरप्पा ने कहा कि भारत को 5 ट्रीलियन डॉलर  अर्थव्यवस्था बनाने के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए विज्ञान और प्रौद्योगिकी के साथ जनसांख्यिकीय लाभ उठाने की आवश्यकता है। 


MORE ON THIS SECTION


1778 pulses mills allowed to import 2.50 lakh tonnes of pulses

1778 दाल मिलों को 2.50 लाख टन दाल आयात करने की मिली अनुमति

विदेश व्यापार महानिदेशालय ने 31 मार्च, 2020 से पहले 2.50 लाख टन उड़द दाल के आयात के लिए दाल प्रसंस्करण मिलों को कोटा आवंटित किया। भारत सरकार ने 2019-20 के दौरान 4 लाख टन के कुल उड़द आयात की अनुमति दी …

105 lakh tonnes of potato expected to be produced in West Bengal

पश्चिम बंगाल में 105 लाख टन आलू का उत्पादन होने की उम्मीद

पश्चिम बंगाल में इस साल 105 लाख टन आलू का उत्पादन होने की उम्मीद है जो पिछले साल की तुलना में 10 प्रतिशत अधिक है। इसका संकेत पश्चिम बंगाल कोल्ड स्टोरेज एसोसिएशन के अध्यक्ष तरुण कांति घोष ने कोलकाता मे…

Vegetable farmers participated in the exhibition made a human series

मानव श्रृंखला बना सब्जी किसानों ने प्रदर्शनी में लिया भाग

सचिव, कृषि डॉ॰ एन॰ सरवण कुमार द्वारा ’’तरकारी महोत्सव-2020’’ के विजेता सब्जी उत्पादक किसानों को पुरस्कार तथा प्रमाण-पत्र देकर प्रोत्साहित किया गया। ज्ञान भवन के पास तरकारी श्रृंखला बनायी गयी। इस तरह क…

Farmers honored in vegetable festival

सब्जी महोत्सव में किसानों को किया गया सम्मानित

बिहार के कृषि मंत्री डॉ॰ प्रेम कुमार ने सम्राट अशोक कन्वेंशन केन्द्र के ज्ञान भवन में उद्यान निदेशालय, कृषि विभाग, बिहार द्वारा आयोजित सब्जी महोत्सव-2020 के दौरान कहा कि तरकारी महोत्सव के आयोजन से सब…

Horizontal Ad large