Fasal Krati

विकसित हुए बीटी कपास के चार नये किस्म

Last Updated: May 14, 2019 (03:55 IST)

10 वर्षों की कड़ी मेहनत के बाद केंद्रीय कपास अनुसंधान संस्थान, नागपुर (सीआईसीआर) ने चार अलग-अलग सीधी किस्मों में क्राई 1एसी जीन विकसित करके कपास की चार बीटी आधारित सीधी किस्मों को विकसित कर दिया है।
संस्थान ने आधार और प्रमाणित बीज दोनों के बड़े उत्पादन के लिए महाबीज कंपनी के साथ एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए हैं। इस खरीफ मौसम के प्रदर्शन के लिए प्रधानमंत्री के कार्यक्रम “मेरा गांव मेरा गौरव” के तहत गोद लिए गए गांवों के किसानों को बीज वितरित किया जाएगा। 
सीआईसीआर के कार्यवाहक निदेशक वीएन वाघमारे ने बताया कि ये किस्में - आईसीएआर-सीआईसीआर जीजेएचवी 374 बीटी, आईसीएआर-सीआईसीआर सूरज बीटी, आईसीएआर-सीआईसीआर रजत बीटी और आईसीएआर-सीआईसीआर पीकेवी 081 बीटी - अमेरिकी और धब्बेदार बोलवर्म के प्रतिरोध के अलावा उपज में बेहतर हैं। चूंकि सीधी किस्में छोटी अवधि के लिए होती हैं। अगर मध्य जून के आसपास बुवाई की जाती है, तो गुलाबी बोलेवॉर्म कीड़े से सुरक्षा मिल सकती है। “सीधी किस्म होने के कारण, सीआईसीआर किसानों को अपने बीज का उत्पादन करने की अनुमति देगा और कम से कम तीन-चार साल तक इसे बाजार से बीज खरीदने की कोई आवश्यकता नहीं होगी। इन किस्मों की खेती उच्च घनत्व वाले वृक्षारोपण में की जा सकती है।

सीआईसीआर में 2008-09 से ही सीधी बीटी किस्मों को विकसित करने पर काम चल रहा था। 2016-17 के फसल सीजन के दौरान, क्राई 1एसी जीन वाले 21 बीटी जीनोटाइप का मूल्यांकन अखिल भारतीय समन्वित अनुसंधान परियोजना (एआईसीआरपी) के तहत 18 स्थानों पर किया गया था। उनके प्रदर्शन के आधार पर, आईसीएएआर के पूर्व उप महानिदेशक (फसल विज्ञान) जेएस संधू की अध्यक्षता में केंद्रीय संस्करण रिलीज समिति द्वारा आठ जीनोटाइप को मंजूरी दी गई थी।

पिछले वर्ष (2018-19), बीज उत्पादन को ऊपर सूचीबद्ध चार किस्मों के लिए लिया गया था, जिन्हें इस वर्ष किसानों को वितरित किया जाना है। व्यवसायीकरण और बड़े पैमाने पर उत्पादन के लिए महाबीज कंपनी को अधिकार दिया गया है। इस वर्ष, इन किस्मों के बीजों का गुणन लगभग 30 क्विंटल तक किया जाएगा।


MORE ON THIS SECTION


Organizing Plantation Program

पौधरोपण कार्यक्रम का आयोजन

कृषि विज्ञान केन्द्र एवं कृषि महाविद्यालय रीवा द्वारा सामूहिक रूप से पौधरोपण का आयोजन किया गया। इस अवसर पर कृषि विज्ञान केन्द्र, रीवा में पीपल के पौध का कृषि वैज्ञानिकों द्वारा पौध रोपण किया गया। पीपल…

Study of zero budget farming

शून्य बजट खेती का अध्ययन

सरकार ने भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आईसीएआर) को शून्य बजट खेती योजना को देशव्यापी स्तर पर लागू होने से पहले उसके परिणामों पर एक अध्ययन करने के लिए कहा है। नीति आयोग के सदस्य और कृषि अर्थशास्त्री रमेश…

Government to develop a cluster to promote cardamom industry

इलायची उद्योग को बढ़ावा देने के लिए एक क्लस्टर विकसित करेगी सरकार

केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने जानकारी देते हुए बताया कि सरकार केरल के इडुक्की में इलायची उद्योग को बढ़ावा देने के लिए एक क्लस्टर योजना विकसित करना चाहती है। गौरतलब है कि इडुक्की इलायची का एक प्रमुख उत…

Potatoes now able to grow in the air

अब हवा में भी उगा सकेंगे आलू

अगर आपसे यह कहा जाए कि अब मिट्टी में उगने वाला आलू अब हवा में भी उग सकता है तो आप आश्चर्य में पड़ जाएंगे, लेकिन यह सच है। दरअसल, केंद्रीय आलू अनुसंधान संस्थान ने हवा में आलू उगाने का कारनामा कर दिखाया…

Horizontal Ad large