किसानों को समय पर उपलब्ध होगा खाद

कोरोना महामारी के चलते इस समय पूरे विश्व की आर्थिक कमर टूटी हुई है। इस महामारी ने जिस तरीके से कोरोना वायरस के बढ्ने से पूरे देश को आर्थिक कठिनाइयो का सामना करना पड़ रहा है। इसी के चलते किसानों को भी खेती करने मे कई तरीके से परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। मध्य प्रदेश देश का मुख्य कृषि प्रधान देश है, लेकिन यहा पर भी किसानों को खेती पर समस्या का सामना करना पड़ रहा है। खाद और बीज की समस्या के चलते किसानों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। इस पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने संज्ञान लेते हुए कहा कि खरीफ 2020 के लिए किसानों को उनकी आवश्यकता के अनुरूप पर्याप्त कृषि आदान उपलब्ध कराया जा रहा है। प्रदेश में खाद एवं बीज का पर्याप्त भंडारण है। किसान किसी बात की चिंता न करें। दरअसल राज्य मे किसानों को बीज और खाद कि समस्या पहले हो चुकी है। इस बार किसानों को खरीफ सीजन मे खाद कि कोई समस्या न हो तो इसके लिए मुख्यमंत्री ने पहले से ही किसानों को आसवासन दिया है। राज्य मे अभी तक खाद वितरण मे अभी तक 8.25 लाख मीट्रिक टन खाद वितरित किया जा चुका है। इसमें 3.69 मीट्रिक टन यूरिया, 3.19 मीट्रिक टन डी.ए.पी. 0.44 मीट्रिक टन कॉम्पलैक्स, 0.24 मीट्रिक टन एम.ओ.पी. एवं सुपर फास्फेट 0.69 मीट्रिक टन किसानों को वितरित कर दिया गया है।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि प्रदेश में खरीफ 2020 के लिए आज की स्थिति में 5.75 लाख मीट्रिक टन यूरिया उपलब्ध है तथा 7300 मीट्रिक टन ट्रांजिट में है। इसी प्रकार 5.90 लाख मीट्रिक टन डी.ए.पी उपलब्ध है तथा 16618 मीट्रिक टन ट्रांजिट में है। इसके अलावा 1.5 लाख मीट्रिक टन यूरिया के अतिरिक्त आवंटन की केन्द्र से मांग की गई है, जो हमें मिल जाएगा। इससे किसानों को खरीफ मे किसी तरह कि कोई परेशानी नही होगी। 

More on this section