कृषि अधिकारीयों ने की ड्रिप स्प्रिंकलर व्यवस्था की समीक्षा

प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना का किसान अधिक से अधिक लाभ उठा सके इसके लिए सरकार पूरे प्रयास कर रही है। कृषि अधिकारी स्वयं किसानों के पास जाकर योजना की समीक्षा कर रहे हैं। उत्तर प्रदेश के बागपत जिले के किसानों ने केंद्र सरकार द्वारा संचालित प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के अंतर्गत आवेदन किए थे। इसमें 60 किसानों के आवेदन स्वीकृत हुए थे। जिसके बाद कृषि विभाग ने इन किसानों को ड्रिप स्प्रिंकलर सिंचाई व्यवस्था को लगाने के लिए 90 फीसदी आवेदन स्वीकार्य किया था। आवेदन का यह लाभ किसानों को योजना के तहत दिया गया था। किसानों ने अपने खेतों में ड्रिप इरीगेशन सिस्टम को लगवा लिया। इसके बाद जिलास्तरीय कृषि अधिकारी किसानों के यहां देखने पहुंचे की किसान ड्रिप स्प्रिंकलर के जरिए फसल की सिंचाई कर रहे है या नहीं। अधिकारीयों ने व्यवस्था का जायजा लिया और साथ ही साथ किसानों से इसका फीडबैक भी लिया कि किसानों को इससे कितना लाभ मिल रहा है।

जिला कृषि अधिकारी डॉ. सूर्य प्रताप सिंह के ने जिला उद्यान अधिकारी सर्वेश चंद, एडीओ कृषि महेश कुमार खोखर के साथ तिलवाड़ा गांव पहुंचे और योजनान्तर्गत लगवाई गई ड्रिप और स्प्रिंकलर व्यवस्था को देखा। किसान ने बताया कि ड्रिप और स्प्रिंकलर व्यवस्था से 40 प्रतिशत पानी की बचत हुई है। वहीं बिजली का बिल भी कम आया है। इस व्यवस्था से जमीन के अंदर नमी भी बनी रहती है। जीवाणुओं की संख्या भी अधिक है। किसान ने बताया की इससे पैदावार में भी 25 प्रतिशत तक की वृद्धि हुई है। मंडलस्तरीय अधिकारीयों ने भी स्थलीय जांच की और किसानों का सत्यापन किया इस मौके पर जिला कृषि अधिकारी ने कहा कि ड्रिप सिंचाई से फसल पैदावार में तो बढ़ोतरी होती ही है इसी के साथ इसमें लागत भी कम आती है और किसानों के पैसों की बचत होती है।

More on this section