केमको ने दो नये उत्पादों को किया लॉन्चः ससिकुमार

केरला एग्रो मशीनरी कॉर्पोरेशन लिमिटेड (केमको) की स्थापना वर्ष 1973 में विशेष रूप से पॉवर टिलर, डीजल इंजन और कृषि मशीनरी के निर्माण के लिए किया गया था। तब यह केरल एग्रो इंडस्ट्रीज कॉर्पोरेशन लिमिटेड, त्रिवेंद्रम की पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी थी जो बाद में स्वतंत्र रूप से अपना व्यापार करने लगी। वर्तमान में, केमको की पांच इकाइयां हैं, जहां  प्रति वर्ष 8400 पॉवर टिलर और 1200 पॉवर रीपर का उत्पादन होता है। इसके साथ ही केमको अन्य कृषि उपकरणों का भी निर्माण बड़े पैमाने पर करता है। कंपनी के पास किसानों की जरूरतों के हिसाब से कई उत्पाद उपलब्ध हैं। हाल ही में कोडेशिया कृषि मेले में कंपनी ने अपने दो नये उत्पादों पैडी वीडर और मोडिफाइड रीपर को लॉन्च किया।

इन उत्पादों के बारे में जानने के लिए फसल क्रांति की टीम ने कंपनी के प्रबंध निदेशक ससिकुमार के.पी. से बातचीत की। बातचीत के दौरान उन्होंने कहा कि कंपनी शुरूआत से ही किसानों के हित में काम कर रही है। हम किसानों के लिए सस्ते व अच्छे उत्पाद ला रहे हैं। हमारे उत्पाद से किसानों की फसलोत्पादन में वृद्धि हो रही है और कृषि कार्य सुगमता से संपन्न हो रहा है।

उन्होंने नये उत्पादों के बारे में बताते हुए कहा कि धान के खेत में खरपतवार का उगना स्वाभाविक है। यह खरपतवार धान की पैदावार पर बुरा प्रभाव डालते हैं। हालांकि किसान इन खरपतवारों को निकालने के लिए कई तरह के यत्न भी करता है। किसानों की इसी समस्या को देखते हुए हमने इस किसान मेले में पैडी वीडर को लॉन्च किया है। यह पैडी वीडर आसानी से धान के खेत से खरपतवारों का सफाया कर देगा।

मक्का की हारवेस्टिंग के लिए हमने मोडिफाइड रीपर को भी इस मेले में लॉन्च किया है। इससे मक्का की हारवेस्टिंग बड़े ही आसानी से किया जा सकता है। यह दोनों मशीनें किसानों की बजट में हैं और कम समय में ज्यादा काम करने में सक्षम हैं। इसके अलावा हमारा पावर टिलर भी एक बेहतरीन उत्पाद है जिसकी मांग बड़े पैमाने पर की जाती है। किसानों को हमारे उत्पाद बहुत पसंद आ रहे हैं। अपने व्यापार के बारे में बोलते हुए उन्होंने कहा कि अभी हम भारत में ही अपना व्यापार कर रहे हैं लेकिन जल्द ही हम शार्क देशों में भी अपना व्यापार बढ़ाएंगे।

उन्होंने कहा कि केरल में ज्यादातर किसान हमारे उत्पादों की खरीदारी करते हैं, साथ ही अन्य राज्यों के किसान भी हमारे उत्पादों को पसंद करते हैं। हमारे उत्पाद मजबूत व टिकाऊ होते हैं और इनसे रखरखाव पर भी कम खर्च होता है। इन्हीं सभी कारणों से किसानों को ये उत्पाद बहुत पसंद आते हैं।

उन्होंने कहा कि सरकार किसानों की आय को दोगुना करना चाहती है। हम भी अपने बेहतर उत्पादों एवं सेवाओं के द्वारा इस दिशा में सहयोग कर रहे हैं। अपने बजट में भी सरकार ने किसानों का खास ध्यान दिया है। हम भी किसानों की सभी समस्याओं को ध्यान में रखते हुए नये-नये उत्पाद बाजार में उतार रहे हैं ताकि किसान उनका लाभ लें और अपनी फसलोत्पादन कर ज्यादा आय अर्जित करें।

उन्होंने कहा कि यह समय किसानों के लिए बहुत ही अच्छा है। एक ओर सरकार किसानों का सहयोग कर रही है तो दूसरी ओर नई-नई तकनीकी आ रही है। दोनों के होने से कृषि और आसान हो रहा है। किसानों को उनकी फसल को बेचने के लिए आनलाइन बाजार भी उपलब्ध करवाया जा रहा है। खाद बीज और अन्य उपकरणों पर सब्सिडी मिल रही है। हमारे ही उत्पाद पर 40 से 50 प्रतिशत सब्सिडी मिलती है। जिससे किसानों को उपकरण खरीदने में आसानी हो जाती है। सरकार किसानों की उत्पादकता को बढ़ाने पर जोर दे रही है और उनकी फसल की अच्छी कीमत भी तय की गई है। ऐसे में देखा जाय तो 2022 तक किसानों की आय को दोगुनी किया जा सकता है।             

More on this section