Fasal Krati

अनन्या सीड्स किसानों का साथीः डॉ एल.के. पाण्डेय

Last Updated: September 24, 2018 (02:31 IST)

अनन्या सीड्स प्राइवेट लिमिटेड बीज उद्योग की एक प्रतिष्ठित कंपनी है जो विभिन्न संकर किस्मों की फिल्ड क्रॉप और वेजिटबल क्रॉप को विकसित एवं वितरित करती है। कंपनी सही रणनीति अपनाकर उच्च गुणवत्ता वाले बीजों के बारे में किसानों को जागरूक कर उनकी आय में कई गुना वृद्धि करने हेतु काम कर रही है। कंपनी अपने ग्राहकों को सर्वश्रेष्ठ बीज उपलब्ध कराने के लिए लगातार नवीनतम शोधकार्य कर रही है। कंपनी का प्रयास उत्पादकों की बढ़ती जरूरतों को पूरा करना व उनकी फसल और कृषि व्यवसाय को बढ़ाने में मदद करना है।

डॉ एल के पांडेय अनन्या सीड्स प्राइवेट लिमिटेड के प्रबंध निदेशक हैं। डॉ एल के पांडेय को हाइब्रिड बीज उत्पादन, गुणवत्ता प्रबंधन, निर्यात-आयात, बिक्री और विपणन, आपूर्ति श्रृंखला प्रबंधन, व्यापार जैसे विविधतापूर्ण भूमिकाओं में पच्चीस वर्ष से अधिक का अनुभव है। पूरे देश में भारतीय बीज उद्योग के विकास में उनका बड़ा योगदान है। इन्होंने अपने ज्ञान के द्वारा बीज उद्योग को समृद्ध किया। इन्होंने बीज उत्पादन के प्रमुख के साथ-साथ भारत की अग्रणी बीज कंपनी में बिक्री और विपणन के रूप में कार्य किया है। कृषि उत्पादकता बढ़ाने के लिए वह जबरदस्त स्तर पर काम करते हैं। इन्हें विभिन्न संगठनों व संस्थानों द्वारा अनेकों पुरस्कार व सम्मान मिले हैं।
डॉ पाण्डेय का मानना है कि वैश्विक आबादी के खाद्यान्न आपूर्ति हेतु कृषि को टिकाऊ पेशे के रूप में बनाने के लिए नीति और निष्पादन स्तर पर बहुत कुछ करने की आवश्यकता है। उनका मानना है कि कृषि को लाभदायक बनाने के लिए कृषि को ईमानदार दृष्टिकोण की आवश्यकता है, जिसमें आधुनिक तकनीकी का उपयोग करके आमदनी को बढ़ाया जा सके।

कंपनी के बारे में विस्तार से जानने के लिए फसल क्रांति की टीम ने कंपनी के प्रबंध निदेशक डॉ एल के पांडेय से बीतचीत की। प्रस्तुत है उनसे हुई बातचीत के कुछ प्रमुख अंश......

 

अनन्या सीड्स प्राइवेट लिमिटेड किसानों के लिए किन-किन फसल बीजों उपलब्ध करा रही है।

अनन्या सीड्स, फील्ड क्रॉप के साथ सब्जी फसलों के बीजों को सफलतापूर्वक विकसित कर रही है। कंपनी के सभी उत्पादों को 'अनन्या बीज' ब्रांड नाम के तहत बेचा जाता है। अनन्या सीड्स की किस्में भारतीय जलवायु के लिए अधिक उपयुक्त हैं। फसलों की विभिन्न किस्मों के हजारों जर्मप्लाज्म उत्पादों की विस्तृत श्रृंखला, विविध उत्पाद पोर्टफोलियो के साथ 30 फसलों, जिसमें फील्ड क्रॉप समेत 120 किस्मों / हाइब्रिड वाली सब्जी फसलों को विकसित कर रही है जो पूरे देश में विभिन्न कृषि जलवायु स्थितियों के अनुकूल हैं।

भारत में अपनी कंपनी की शुरुआत और यात्रा के बारे में विवरण दें। 

अनन्या बीज प्राइवेट लिमिटेड 14 नवंबर, 2011 को बैंगलोर में पंजीकृत हुई और एल के पांडेय के नेतृत्व में कंपनी आगे बढ़ी। सीईओ सलील कुमार श्रीवास्तव द्वारा प्रतिदिन कंपनी के उत्थान के लिए कार्य करते हैं एवं इसे निर्देशित करते हैं। इसकी प्रसंस्करण और पैकिंग इकाई अंबाला (हरियाणा) में है जहां, भंडारण, उपचार और बीज की पैकिंग की जा रही है। कंपनी का उद्देश्य वैज्ञानिक रूप से उत्पादित उच्च गुणवत्ता वाले बीजों को अनुसंधान और विपणन के माध्यम से भारतीय बीज उद्योग में अग्रणी बनना है। कंपनी की आर एंड डी को डीएसआईआर (भारत सरकार) द्वारा मान्यता प्राप्त है। कंपनी किसानों की जरूरतों को समझने और अधिक मांग उत्पन्न करने के लिए जमीनी स्तर पर बारीकी से काम करती है।

आप सब्जी के बीज के क्षेत्र में क्या कर रहे हैं?

अनन्या की टीम में अत्यधिक योग्य और सक्षम प्रजनक हैं जो विभिन्न फसलों के संकर किस्मों को विकसित करने के लिए नए जर्मप्लाज्म और आधुनिक प्रौद्योगिकियों का उपयोग कर रहे हैं, जिनमें कीटों और बीमारियों के उच्च प्रतिरोध होने के साथ व्यापक अनुकूलता और उच्चतर उपज वाली किस्में होती हैं। अनन्या सीड्स विभिन्न कृषि जलवायु वाले क्षेत्रों में अपना शोध कार्य कर रही है। आर एंड डी गतिविधियों में जर्मप्लाज्म का मूल्यांकन, विकास, संकरण, पैरेंट बीजों का रखरखाव और संकर किस्मों का मूल्यांकन इत्यादि शामिल है।

भारत के कितने राज्यों में, आप अपने बीज की आपूर्ति कर रहे हैं?

हमारी कंपनी हरियाणा, पंजाब, उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड, असम, उड़ीसा, कर्नाटक, राजस्थान, गुजरात, दिल्ली और मध्य प्रदेश में बीज वितरित कर रही है।

सब्जियों की कौन सी किस्मों की उच्चतम मांग है?

कंपनी की भिडीं, गौर्ड्स, खरबूजे, खीरे, बैंगन, टमाटर, मिर्च, गाजर, गोभी, फूलगोभी और मूली की मांग बड़े पैमाने पर की जाती है। इसके अलावा धान, गेहूं, मकई, फोरेज सोरगम, सरसों/ रैपिसेड इत्यादि की मांग भी वृहद स्तर पर हो रही है।

किसान आपके बीजों को लेकर कैसी प्रतिक्रिया करते हैं?

हाइब्रिड बीजों का उपयोग आम तौर पर किसानों को उच्च उत्पादकता, एकरूपता और बेहतर गुणवत्ता वाले उत्पाद को प्राप्त करने में सक्षम बनाता है। हम कई गुणवत्ता वाले आनुवंशिक रूप से बेहतर नई किस्मों को  पेश करते हैं, जिनकाउपयोग करके किसान अपनी आय व उपज में बढ़ोत्तरी कर रहे हैं। हमारे बीजों के द्वारा किसान बहुत खुश है। कंपनी के प्रतिनिधि फसल उत्पादन से संबंधित किसी भी तरह के मुद्दों के लिए उनकी सहायता के लिए हमेशा उपलब्ध हैं।

किसानों की आय बढ़ाने के परिप्रेक्ष्य से आप क्या कर रहे हैं?

बीज उद्योग के विकास से हम बीज उत्पादकों की आय और उनकी क्रय शक्ति बढ़ा सकते हैं। इससे उनकी आर्थिक गतिविधियों को बढ़ावा मिलेगा। किसान धीरे-धीरे कम मूल्य वाली फसलों से उच्च मूल्य फसलों में स्थानांतरित हो रहे हैं। हम सभी जानते हैं कि किसान उपलब्ध सर्वोत्तम कृषि इनपुट के माध्यम से कृषि उत्पादकता बढ़ाने और अच्छे कृषि संबंधी प्रथाओं का उपयोग करना चाहते हैं। इस कड़ी में हम बीज उत्पादन की वृद्धि में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं। जिससे उनकी आय में इजाफा हो सके।

आने वाले समय में सब्जी बीज की किस्मों में आप किन गुणों को विकसित करने जा रहे हैं?

प्रतिस्पर्धी बने रहने के लिए उपभोक्ता व्यवहार प्रवृत्तियों को समायोजित करने के लिए हमारे पास विभिन्न बदलावों को शामिल करने के लिए नई रणनीतियां हैं। हमने मुख्य सब्जी फसलों की विभाजन प्रक्रिया में अग्रणी भूमिका निभाई है और लगातार उच्च उपज और वांछित विशेषताओं वाले परंपरागत और गैर परंपरागत उत्पादों को लॉन्च कर रहे हैं। हम सब्जियों की प्रचलित बीमारियों के प्रतिरोध के साथ उच्च पैदावार वाली फसलों को लाने का इरादा रखते हैं। इसके अलावा हम अनिश्चित जलवायु स्थितियों में प्रदर्शन करने के लिए जलवायु लचीला संकर किस्मों का विकास कर रहे हैं।

आपने किस प्रकार के सहयोग या गठजोड़ विकसित किए हैं?

हमारे पास विभिन्न प्रकार के सहयोग हैं। आईएआरआई, नई दिल्ली, जीबीपीयूएटी, पंतनगर, आईवीवीआर, वाराणसी और आईआरआरआई, फिलिपिन्स, सीआईएमएमवाईटी, मेक्सिको के साथ सहयोग कंपनी में नई उर्जा लाने के लिए बहुत ही उपयुक्त है। इस सहयोग से कंपनी को नई मजबूती मिलेगी जिससे कंपनी नए उत्पादों को लाने में सक्षम बनेगी।

भारत सेमेत अन्य कितने देशों में आप बीज निर्यात कर रहे हैं?

अनन्या के बीज ने पाकिस्तान, बांग्लादेश, नेपाल, अफगानिस्तान, भूटान, कोरिया, सऊदी अरब, संयुक्त अरब अमीरात और पश्चिम अफ्रीका जैसे अन्य देशों में अपनी उपस्थिति दर्ज करा रही है।


MORE INTERVIEWS


Camco Launches Two New Products Launch: Sasikkumar

केमको ने दो नये उत्पादों को किया लॉन्चः ससिकुमार

केरला एग्रो मशीनरी कॉर्पोरेशन लिमिटेड (केमको) की स्थापना वर्ष 1973 में विशेष रूप से पॉवर टिलर, डीजल इंजन और कृषि मशीनरी के निर्माण के लिए किया गया था। तब यह केरल एग्रो इंडस्ट्रीज कॉर्पोरेशन लिमिटेड, त्रिवेंद्रम की पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी थी …

Growing agricultural productivity with new products: Sanjay Gupta

नये उत्पादों से बढ़ रही कृषि उत्पादकताः संजय गुप्ता

अम्बर क्रॉप साइंस प्राइवेट लिमिटेड कंपनी कृषि उत्पाद जैसे इनसेक्टिसाइड, हर्बीसाइड, फंगीसाइड और प्लांट ग्रोथ रेगुलेटर को किसानों को बड़े पैमाने पर प्रदान करती है और इन उत्पादों के निर्माण में अपना प्रमुख स्थान रखती है। कंपनी की शुरूआत वर्ष 2008 में हु…

Horizontal Ad large