इस महिला ने पेड़ को बना दिया लाइब्रेरी

किताबों की शौक के लिए लोग क्या-क्या नहीं करते हैं। किताबों के शौकीन लोग घर में लाइब्रेरी बनाते हैं, कुछ लोग लाइब्रेरी की सदस्यता लेकर नई-नई किताबें पढ़ते हैं। अमेरिका की इडाहो में रहने वाली शार्ली आर्मिटेज होवार्ड ने घर के बाहर लगे पेड़ को ही लाइब्रेरी बना दिया। शार्ली आर्मिटेज होवार्ड ने अपने घर के बाहर लगे 110 साल पुराने कॉटनवुड के पेड़ को लाइब्रेरी में बदल दिया। किताबों की शौकीन शार्ली ने यह लाइब्रेरी खुद के इस्तेमाल के साथ-साथ स्थानीय लोगों के लिए भी खोल रखी है। शार्ली अपनी इस अनोखी लाइब्रेरी से लोगों को किताबें मुफ्त में देती हैं।
बता दें कि शार्ली आर्मिटेज एक स्थानीय लाइब्रेरी में काम करती हैं। उन्हें किताबों का बहुत शौक है। इसके साथ ही शार्ली को प्रकृति से भी बेहद जुड़ाव है। घर के बाहर लगे पेड़ से उनका इतना लगाव है कि उन्होंने पेड़ को ही अपनी लाइब्रेरी बना दिया है। पेड़ को लाइब्रेरी बनाए जाने पर शार्ली ने कहा कि वो अक्सर सोंचती थी, कि घर के बाहर लगे पेड़ को और कैसे वो अपने जीवन में इस्तेमाल कर सकती हैं। घर के बाहर लगे पेड़ को इस्तेमाल करने को लेकर शार्ली के मन में कोई विचार नहीं था। इसके लिए पड़ोसियों से लेकर इंटरनेट पर लोगों से राय देने के लिए कहा। बातचीत के दौरान ही उन्हें पेड़ में लाइब्रेरी बनाने का विचार आया।

उन्होंने खास तरीके से पेड़ को कटवाया ताकि उसमें किताबें रखी जा सकें। शेल्फ को बंद करने के लिए उसमें एक सुंदर दरवाजा भी लगाया। तने के ऊपर छत लगाई। लाइब्रेरी के अंदर लाइटिंग की व्यवस्था की गई है। सुंदरता बढ़ाने के लिए पेड़ पर लालटेन भी टांगी। शार्ली ने इस लाइब्रेरी की तस्वीर को सोशल मीडिया पर पोस्ट किया है। दिसंबर में पोस्ट की गई लाइब्रेरी की तस्वीर को एक लाख से ज्यादा बार शेयर और तेरह हजार से ज्यादा कमेंट किए गए हैं।

दुनिया की अनोखी लाइब्रेरी पर शार्ली ने कहा कि मैं आश्चर्यचकित हूं कि कई महीनों से लोग मुझे सुन रहे हैं और काम की तारीफ कर रहे हैं। कुछ नया करने के जुनून के चलते ही यह सब हो पाया। इसमें प्रकृति, किताबें, लाइब्रेरी और ऐसे लोग शामिल हैं जो लोगों की उनके काम को लेकर तारीफ करते हैं।

साभार दै.जा.

More on this section