Fasal Krati

10 दिन के अवकाश से जापानी हुए नाराज, पढ़ें पूरी खबर

Last Updated: April 04, 2019 (01:18 IST)

कोई देश यूं ही महान नहीं बन जाता। वहां रहने वाले लोगों की सोच उनकी कार्य संस्‍कृति उसे महान बनाती है। कार्य संस्‍कृति का एक ताजातरीन उदाहरण जापान में देखा जा सकता है। जापान में नए राजा नारुहितो की ताजपोशी पर देश के कर्मचारियों को 10 दिनों का राजकीय अवकाश प्रदान किया गया है। इस दौरान जापान में सभी सरकारी और गैर सरकारी दफ्तर पूरी तरह से बंद होंगे। दुनिया के कई मुल्‍कों में राष्‍ट्रीय पर्व पर होने वाले अवकाश खुशी का विषय हो सकता है। लेकिन जापान में इसके उलट तस्‍वीर है। जापानी नाग‍रिक इस राजकीय अवकाश से नाराज है। शायद, जापानी लोगों की यह सोच और उनकी कार्य संस्‍कृति जापान को महान बनाती है।
दरअसल, जापान में इस वर्ष एक मई को युवराज नारुहितो के राजगद्दी संभालते ही नए शाही युग की शुरुआत हो जाएगी। जापान में यह नई राजशाही 'रीवा' के नाम से जानी जाएगी। नए शाही के स्‍वागत में जापानी सरकार ने 27 अप्रैल से 10 मई तक विशेष अवकाश की घोषणा की है।
इस दौरान जापान के सभी स्‍कूल एवं सरकारी व गैर सरकारी प्रतिष्‍ठान बंद रहेंगे। इस छुट्टी को लेकर जापान की 45 फीसद से अधिक आबादी नाखुश है। वह इस छुट्टी को जायज नहीं मान रही है। यह बात यह एक स्‍थानीय अखबार द्वारा कराए गए सर्वे में सामने आई है।

अवकाश से नाराज लोगों का यह तर्क था कि आखिर इन दस दिनों के अवकाश में क्‍या करेंगे। वह इन छुट्टियों को कैसे बिताएंगे। यह सबसे बड़ी समस्‍या है। सर्वे का दावा है कि हालांकि, 35 फीसद लोगों इस अवकाश से खुश दिखे। उनका कहना है कि इन दस दिनों में खुब धूमेंगे-फिरेंगे। उधर, कुछ लोगों का मानना है कि देश में इतनी लंबी छूट्टी से जापानी की राजधानी टोक्‍यो समेत कई बड़े शहर खाली हो जाएंगे। उनका तर्क था कि क्‍यों कि जापनी लोग विदेश जाने का मौका तलाशते रहते हैं।

दुनियाभर में जापान अपनी अनूठी कार्य संस्‍कृति के लिए जाना जाता है। जपानी लोगों की गणना अत्‍यधिक परिश्रमी और मेहनतकस लोगों में होती है। जापानी लोग अपने सहयोगियों का भी बड़ा ख्‍याल रखते हैं। देश में करीब दो तिहाई कमर्चारी सिर्फ इस वजह से अवकाश नहीं लेते, क्‍यों इससे उनके साथी को दिक्‍कत हो सकती है। देश में यह नियम है कि प्रत्‍येक कर्मचारी वर्ष भर में दस दिन का सवैतनिक छुट्टी ले सकता है।
लेकिन यहां कर्मचारी इस अवकाश का उपयोग न के बराबर करता है। जब अवकाश नहीं लेता तो हर वर्ष उसकी छुट्टियों में इजाफा होता चला जाता है। गत वर्ष जापानी सरकार ने लगातार कार्य करने वाले कर्मचारियों को महीने के आखिरी शुक्रवार को जल्‍द घर जाने का विकल्‍प दिया, जिससे वह अपने साप्‍ताहिक अवकाश के लिए बेहतर योजना बना सके।  

साभार दै.जा.


MORE ON THIS SECTION


In this luxurious house and promotional village, 638 out of 730 farmers have a higher education degree

आलीशान मकान और तरक्की वाले इस गांव में 730 किसानों में से 638 के पास उच्च शिक्षा की डिग्री

चंदौली, उत्तर प्रदेश के खुरुहझा गांव में शानदार इमारतें, गेहूं-धान की दोगुनी पैदावार, हर घर में ट्रैक्टर, हार्वेस्टर... यहां की समृद्धि को बयां करने के लिए काफी हैं। उच्च शिक्षा प्राप्त यहां के किसान …

This person bought the BMW car by giving 900 kg of coins

900 किलो सिक्के देकर इस शख्स ने खरीदा बीएमडब्लयू कार

इंसान अपने सपने को पूरा करने के लिए एड़ी चोटी का जोर लगा देता है। काफी मशक्कत के बाद हम एक-एक पाई जोड़ते हैं तब कही जाकर हमारे सपने पूरे हो पाते हैं। चीन में ऐसा ही मामला सामने आया है। दरअसल एक शख्स ए…

Hyundai launches electric car 'Kona' in India

ह्यूंदै ने इलेक्ट्रिक कार ‘कोना’ को भारत में किया लॉन्च

प्रसिद्ध कार निर्माता कंपनी ह्यूंदै अपनी पहली इलेक्ट्रिक कार को भारत में लॉन्च किया है। इस कार का नाम ‘कोना’ रखा गया है। कंपनी ने बताया है कि यह इलेक्ट्रिक एसयूवी एक बार फुल चार्ज करने पर 452 किलोमीटर…

Cows considered useless here are millions of earnings

बेकार समझी जाने वाली गायों से यहां होती है लाखों की कमाई

दूध न दे पाने की स्थिति में जिन गायों को गौपालकों ने बेकार समझकर लावारिस भूखा-प्यासा भटकने के लिए छोड़ दिया था। अब उन्हीं गायों के गोबर और पेशाब से ग्वालियर नगर निगम की लालटिपारा गौशाला में कैचुआ खाद, …

Horizontal Ad large