जम्मू एंड कश्मीर इनवेस्टर्स समिट 2020 रोडशो बैंगलुरू से हुआ आरंभ

रन अप के रूप में आयोजित रोडशो का बैंगलुरू इवेंट जम्मू एंड कश्मीर ग्लोबल इनवेस्टमेंट समिट के लिए अपवाह साबित हुआ। इस दौरान 670 करोड़ की कीमत के 13 एमओयू साईन किए गए और इसके साथ ही टैक्रोलॉजी इनोवेशन सेंटर के क्षेत्र में निवेश के लिए 175 करोड़ के प्रस्ताव प्राप्त हुए हैं।

जम्मू एंड कश्मीर के एलजी के सलाहकार केवल कुमार शर्मा ने इस अवसर पर कहा कि जम्मू एंड कश्मीर का नया वर्जन देश भर के हिस्सों की तरह अब उभरने को पूरी तरह से तैयार है। उन्होंने कहा कि जम्मू एंड कश्मीर के हर जिले में हैरीटेज, कल्चर, अलग इतिहास व सामर्थय मौजूद हैं।

विकास योजना व निगरानी विभाग के प्रधान सचिव रोहित कांसल ने जम्मू एंड कश्मीर में निवेश के मौकों को लेकर एक विस्तृत प्रेजेंटेशन दी जिसमें उन्होंने 14 अहम क्षेत्र जिनमें पर्यटन, शिक्षा, स्वास्थ्य व इंफ्रास्ट्रक्चर पर फोकस किया और अवसरों के बारे में जानकारी दी। इसके साथ ही उन्होंने इनवेस्टर फ्रैंडली नीतियों और क्षेत्र आधारित नीतियों के बारे में भी जानकारी दी। जम्मू एंड कश्मीर को उद्योग हब बनाने के लिए निवेश के लिए उपयुक्त 48 प्रोजेक्ट और 14 मुख्य क्षेत्रों की पहचान की गई है जिससे व्यापार को आसान बनाया जा सके। 6000 एकड़ से अधिक इंडस्ट्रियल व विशेष लैंड बैंक की पहचान की गई है जिससे बड़ी, मध्यम व छोटी कंपनियों को आकर्षित कर राज्य में राजस्व और रोजगार के अवसर को बढ़ाया जा सके। जेकेटीपीओ ने निवेशकों की सुविधा के लिए एक सेल दिल्ली में आरंभ किया है और अब जम्मू व श्रीनगर में आरंभ करने की तैयारी है। 

जिन क्षेत्रों की पहचान की गई है उनमें पर्यटन, फिल्म पर्यटन, बागवानी तथा फसल कटाई बाद का प्रबंधन, सिल्क केलिए मलबैरी का उत्पाद, विनिर्माण, इंजीनियरिंग, अक्षय उर्जा, मूल भूत ढंाचा, हैंडी क्राफ्ट, रीयल एस्टेट आदि शामिल हैं। शिखर सम्मेलन का उद्देश्य इन क्षेत्रों को पुनर्जीवित करना है, जिससे इस क्षेत्र की अर्थव्यवस्था में नई गतिशीलता का विकास होगा।

जम्मू एंड कश्मीर के आईटी विभाग के प्रधान सचिव बिपुल पाठक ने कहा कि यूटी में जल्द ही दो नए आईटी पार्क आ रहे हैं जो प्लग एंड प्लग सुविधा के साथ होंगे और इसके साथ ही नई इंडस्ट्रियल प्रमोशन पॉलिसी भी लाने की तैयारी की गई है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि कुशल मानव शक्ति के लिए यूटी में संभावनाओं की कोई कमी नहंी है और सरकार कई उद्योग क्षेत्रों के लिए सरकार इंसेंटिव और छूट भी दे रही है।

इस कार्यक्रम के दज्ञैरान राउंड टेबल मीटिंग की श्रृंखला हुई और बी2बी व बी2जी नेटवर्किंग मीटिंग हुई तथा यूटी में उद्योगों की बढोत्तरी तथा रोजगार सृजन के लिए विशेष सत्रों का आयोजन किया गया। इसमें करीब 150 प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया और इस दौरान 12 बी2जी बैठकों का आयोजन किया गया। टोयोटा किर्लोस्कर, फ्लिपकार्ट, ऑरेकल इंडिया, बिग बास्केट, र्कोप्नोसिस, इंडस वैली आयुर्वेदिक सेंटर, अरविंद मिल्स आदि नामी कंपनियों ने हिस्सा लिया। इसके साथ ही फ्लिपकार्ट ने अपने समर्थ पोर्टल के माध्यम से मार्केट एक्सेस देने का वायदा किया, ऑरेकल ने एक्सीलेंस सेंटर व फ्री सॉफ्टवेयर लाभ उपलब्ध करवाने के लिए शिक्षण संस्थानों से सहयोग करने की बात कही।

कैसे नवगठित केंद्र शासित प्रदेश की क्षमता का लाभ उठाया जा सकता है इस पर मंथन करने के लिए व्यापार समुदाय के प्रतिभाशाली लोगों के लिए एक मंच प्रदान किया गया। यह रोडशो मुंबई, हैदराबाद, चेन्नई, अहमदाबाद जैसे कई अहम शहरों को कवर करेगा और निवेशकों, निर्णय निर्माताओं, वरिष्ठ सरकारी अधिकारियों स्थानीय व्यापार समुदाय आपस में संवाद कर 14 पहचान किए गए क्षेत्रों में औद्योगिक विकास और विनिर्माण को प्रेरित कर सकते हैं। अभी 5 और रोडशो कोलकाता, मुंबई, हैदराबाद, चेन्नई व अहमदाबाद में आयोजित किए जाएंगे।

सरकार के नेतृत्व वाला उद्योगी प्रतिनिधि मंडल जिसमें कृषि व बागबानी सचिव मंजूर अहमद, जेके आईटीआईडीसी के प्रबंध निदेशक सिमरनदीप सिंह, श्री नगर के डीसी साहिंद इकबाल, इंडस्ट्री व कॉमर्स विभाग के निदेशक अनू मल्होत्रा, एसआईसीओपी के प्रबंध निदेशक अतुल शर्मा तथा अन्य वरिष्ठï सरकारी अधिकरी सबोंधन के लिए मौजूद थे। इसके साथ ही नामी उद्यमी एयरमैश के प्रबंध निदेशक विक्रम गुप्ता, एमक्योर के रेजिडेंट डाक्टर सतीष कौल तथा ऐएंडके बैंक के प्रतिनिधियों ने भी मौजूदगी दर्ज की।

कार्यक्रम का अयोजन जम्मू एंड कश्मीर ट्रेड प्रमोशन ऑर्गेनाईजेशन किया गया था जो जम्मू एंड कश्मीर सरकार की नोडल एजेंसी है और भारतीय उद्योग परिसंघ नेशनल पार्टनर के रूप में साथ है।

 

More on this section