सीआईआई का 14वां सर्फेस कोटिंग शो पेंट्स और कोटिंग टेक्रोलॉजी में विकास और स्थिरता पर केंद्रित

सीआईआई इंडिया सर्फेस कोटिंग शो जो एक अंतराष्ट्रीय सम्मेलन व सर्फेस कोटिंग टैक्रोलॉजी का संगम है उसका 14वां संस्करण दिल्ली में आयोजित किया गया। इस अवसर पर सीआईआई उत्तरी क्षेत्र के अध्यक्ष व जैक्सन ग्रुप के सीएमडी समीर गुप्ता ने अपने संबोधन में कहा कि भारतीय पेंट व कोटिंग इंडस्ट्री को आगे बढ़ते हुए प्रोडक्ट रेंज, क्वालिटी व दाम के मामले में न केवल स्थानीय बल्कि वैश्विक प्रतिस्पर्धा के लिए तैयार रहना होगा। उन्होंने कहा कि पेंट व कोटिंग इंडस्ट्री बड़ी तेजी से प्रतिस्पर्धी बन रही है। क्वालिटी, लागत, वितरण, सेवा, सुरक्षा व पर्यावरण के क्षेत्र में बड़ी तेजी से नाटकीय बदलाव आ रहे हैं। चुनौतीपूर्ण वैश्विक बाजार में भविष्य सबसे आगे व स्थाई वही होगा जो नया करने की क्षमता रखता होगा चाहे वह प्रौद्योगिकी, प्रक्रिया, संयंत्र, उपकरण या सुविधाएं हों।

 

इंडिया सर्फेस कोटिंग शो 2019 के चेयरमैन रमेश सी जैन ने कहा कि पेंट्स एंड कोटिंग उद्योग मजबूत और गतिशील है जो भारतीय अर्थव्यवस्था में एक बड़ा योगदानकर्ता बन गया है। व्यवसाय की दुनिया की तीव्रता के लिए व्यावहारिक दृष्टिकोण जरूरी है। भारतीय पेंट उद्योग करीब 50 हजार करोड़ का है और बड़ी तेजी से बढ़ रहा है जिसके 2021-22 तक 70 हजार करोड़ पहुंचने की उम्मीद है। भारतीय पेंट उद्योग और देश की जीडीपी के बीच मजबूत सह संबंध है क्योंकि यह देश की जीडीपी वृद्घि को 1.5 से 2 गुना बढ़ा दिया है।   

 

महिंद्रा एंड महिंद्र लिमिटेड के सलाहकार डाना मोर्गन ने कहा कि भविष्य की तकनीक को बेहतर बनाने में भारत की भूमिका बाकियों से अधिक होगी। उन्होंने कहा कि आने वाले 30 साल में चीन और भारत दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने वाले हैं। उन्होंने सुझाव दिया कि भारत को अपनी इमेज बदलनी होगी ओर इसे लो क्वालिटी से हाई क्वालिटी पर लेकर आना होगा। 

 

ड्यूर इंडिया प्राईवेट लिमिटेड की प्रबंध निदेशक मिशेल बर्गर ने कहा कि सतत तकनीकों के पेंट शॉप में इस्तेमाल, वीओसी को घटाना, प्रोसेस एफिशिएंसी को बेहतर बनाकर तथा अपव्यव को कम कर मातृभूमि को बचा सकते हैं। उन्होंने यह भी कहा कि बहुत अच्छी स्थायी प्रौद्योगिकियां उपलब्ध हैं, लेकिन यह उपयोगकर्ताओं पर निर्भर है कि वे उन्हें ध्यान से देखें और उनका चयन करें। उन्होंने भविष्य की पेंट शॉप अवधारणा भी पेश की जो टिकाऊ, स्केलेबल और लचीली है।

सम्मेलन के दौरान भूतल कोटिंग में नवीनतम तकनीकों को प्रदर्शित करने वाली एक केंद्रित प्रदर्शनी भी आयोजित की गई। इस कार्यक्रम ने अमेरिका, जर्मनी, यूके, चीन, जापान, फ्रांस और स्विट्जरलैंड आदि से वक्ताओं ने हिस्सा लिया और पेंट्स एंड कोटिंग टेक्नोलॉजी में स्थिरता के विभिन्न पहलुओं पर अपने अनुभव को साझा किया। इस कार्यक्रम में 500 से अधिक प्रतिनिधियों ने भाग लिया।

More on this section