सीआईआई और मध्य प्रदेश सरकार द्वारा कृषि विकास प्रदर्शनी का आयोजन

मध्य प्रदेश सरकार के साथ संयुक्त रूप से भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) ने 19 से 21 मई, 2017 को कृषि विकास 2017 प्रदर्शनी का आयोजन  BHEL दशहरा मैदान , भोपाल में किया।

इस प्रदर्शनी में बागवानी, खाद्य प्रसंस्करण, कृषि मशीनरी, इनपुट और संबद्ध सेवाओं के क्षेत्र में किसानों को नई तकनीकी वृद्धि जोड़ने का प्रयास किया गया।

सीआईआई मध्य प्रदेश के चेयरमैन अंशुल मित्तल ने कहा, "कृषि क्षेत्र भारत के भौगोलिक क्षेत्र का 60 प्रतिशत हिस्सा है और आबादी का आधा हिस्सा भी इस क्षेत्र में  कार्यरत है। जीडीपी में कृषि का हिस्सा घटकर 13.9 है, जो एक चिंता का विषय है। जलवायु संबंधी पैटर्न और मानसून पर क्षेत्र की निर्भरता में भारी परिवर्तन उत्पादकता को बढ़ाने के लिए आधुनिक और वैज्ञानिक खेती तकनीकों को समय पर अपनाने के लिए कहते हैं। " उन्होंने आगे कहा कि उन्हें यकीन है कि कृषि विकास प्रदर्शनी से कृषि क्षेत्र में आने वाले मुद्दों का समाधान होगा और इससे किसानों को प्रगति और समृद्धि के रास्ते पर चलने का मार्गदर्शन मिलेगा। मेजबान राज्य मध्य प्रदेश, जिसने हाल ही में कृषि उत्पादन में 20 फीसदी की बढ़ोत्तरी दर्ज की है, दूसरे राज्यों के लिए एक प्रेरणास्रोत मॉडल है। "मध्य प्रदेश ने देश में गेहूं उत्पादन में उत्कृष्टता के लिए पांचवीं बार 'कृषि कर्मण पुरस्कार' जीता है, जो प्रशंसनीय है ।

कृषि विकास 2017 प्रदर्शनी में महिंद्रा एंड महिंद्रा, बीकेटी टायर, आयशर ट्रैक्टर्स, जॉन डीयर, सोनालिका ट्रैक्टर, TAFE, अपोलो जैसी अग्रणी कंपनियों ने भागीदारी की। नाबार्ड और स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने भी प्रदर्शनी में भाग लिया। किसानों की अपनी लोकप्रिय मासिक कृषि पत्रिका फसल क्रांति की इस प्रदर्शनी में मीडिया पार्टनर के रूप में सक्रिय भूमिका रही

More on this section