सिनजेन्टा एजी ने देश के पहले शोध एवं विकास केंद्र का उद्धाटन किया

सिनजेन्टा एजी ने देश में अपने पहले शोध एवं विकास केंद्र का उद्धाटन किया। इस केंद्र की स्थापना आंध्र प्रदेश राज्य में किया गया है। इस अवसर पर सिनजेन्टा एजी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी एरिक फ्रिवाल्ड ने कहा कि कंपनी का लक्ष्य भारतीय किसानों के लिए नये कृषि उत्पादों को लॉन्च करना और वितरित करना है ताकी उनकी उत्पादकता को बढ़ाया जा सके।

उन्होंने कहा कि भारत में हम चावल, सब्जियों, मक्का, गेहूं और कपास जैसी प्रमुख फसलों की उत्पादकता बढ़ाने के लिए किसानों के हाथों में नए नवाचार को स्थानांतरित करना चाहते हैं। हम किसानों को कम से कम कीटनाशकों के उपयोग के साथ आधुनिक खेती की तकनीक सिखाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। हमने फसलों को नुकसान से बचाने, कीटों का पता लगाने में मदद करने के लिए ड्रोन जैसे डिजिटल टूल का उपयोग कर रहे हैं।

इस अवसर पर सिनजेन्टा इंडिया लिमिटेड के प्रबंध निदेशक, राफेल डेल रियो ने कहा कि हमने आंध्र प्रदेश में इस केंद्र की स्थापना का विकल्प इसलिए चुना क्योंकि राज्य में तीन प्रमुख नदियाँ (गोदावरी, कृष्णा और तुंगभद्रा) हमारे लिए आदर्श हैं। आर एंड डी सुविधा एक सीड केयर इंस्टीट्यूट को संभालेगी, जो दक्षिण एशिया में अपनी तरह का पहला केंद्र है, जिसका उद्देश्य किसानों और कृषि विभाग के अधिकारियों जैसे हितधारकों के साथ हमारे संबंधों को बढ़ाने और बाजार में अनुकूलित सेवाओं का विस्तार करना है।

स्विट्जरलैंड आधारित, सिनजेन्टा एक वैश्विक कंपनी है जो कृषि-रसायन और बीज का उत्पादन करती है। भारत में सिनजेन्टा ने अपना मुख्यालय पुणे में स्थापित किया है। इस नवाचार केंद्र को 10 करोड़ की लागत से स्थापित किया गया है। इसका उद्देश्य फसल सुरक्षा उत्पादों और बीजों के उच्च परिशुद्धता और योग्य परीक्षणों को सुनिश्चित करना है।

More on this section