किसानों की मदद के लिए स्वराज ट्रैक्टर्स आया आगे

महिंद्रा समूह की स्वराज ट्रैक्टर्स ने किसानों को कोरोनावायरस महामारी के बीच में समर्थन देने के लिए आगे आया हैं। कंपनी फसल कटाई के दौरान एक ट्रैक्टर की पेशकश कर रही है जो ग्राहकों को इस महत्वपूर्ण समय में मदद करेगा। कंपनी ने अपने आपके साथ है आपका स्वराज” अभियान के तहत पहल शुरू की है।

'सॉलिड भरोसा' के अपने वादे को पूरा करते हुए, स्वराज अपने कॉल सेंटर के माध्यम से अपने ग्राहकों को 24x7 सहायता दे रही है। ग्राहक सेवा और स्पेयर पार्ट्स से संबंधित 18004250735 टोल फ्री नंबर पर संपर्क कर सकते हैं।

किसानों के लिए कटाई का मौसम बहुत ही महत्वपूर्ण अवधि है। वर्तमान महामारी के कारण, स्वराज नहीं चाहता था कि उन्हें अपने ट्रैक्टरों के संबंध में किसी भी कठिनाई का सामना करना पड़े और इसलिए उन्होंने यह पहल शुरू की। हमेशा की तरह, स्वराज एक ग्राहक केंद्रित संगठन के रूप में किसानों के साथ खड़ा है।

इन विषम परिस्थितियों में किसान समुदाय का समर्थन करने के लिए स्वराज प्रतिबद्ध है। स्वराज के स्टैंडबाय ट्रैक्टर डीलरों द्वारा पेश किए गए विभिन्न स्थानों पर उपलब्ध होंगे, जो पहले अपने ग्राहकों को बेसिस्टो की सेवा देंगे।

इसके अलावा स्वराज की कॉर्पोरेट सोशल रिस्पॉन्सिबिलिटी विंग मेडिकल बिरादरी और बड़े पैमाने पर जनता का समर्थन करने के लिए लगातार विभिन्न गतिविधियों में लगी रहती है। डॉक्टरों और पैरामेडिकल स्टाफ के लिए मास्क, सैनिटाइज़र, ईसीजी मशीनें और सुरक्षात्मक सूट चंडीगढ़ के पीजीआईएमईआर और सरकारी मेडिकल कोलाज और अस्पताल को दान किए गए हैं। मोहाली जिले में जरूरतमंदों को गेहूं, आटा और चावल सहित आवश्यक किराने का सामान वितरित किया गया।

स्वराज के बारे में

स्वराज ट्रैक्टर्स 20.7 बिलियन अमरीकी डॉलर के महिंद्रा ग्रुप का एक डिवीजन है और यह भारत का दूसरा सबसे बड़ा और सबसे तेज़ी से बढ़ने वाला ट्रेक्टर ब्रांड है। 1974 में स्थापित, स्वराज ने स्थापना के बाद से 1.5 मिलियन से अधिक ट्रैक्टर बेचे हैं। पंजाब में स्थित, भारत का अनाज का कटोरा, स्वराज एक ऐसा ब्रांड है जो किसान द्वारा बनाया जाता है, किसान के लिए क्योंकि उसके कई कर्मचारी भी किसान हैं। स्वराज ट्रैक्टर्स, जो लगातार भारत में ग्राहक संतुष्टि में शीर्ष कंपनियों में शामिल हैं, 15HP से 65HP की रेंज में ट्रैक्टर बनाती है और खेती के संपूर्ण समाधान भी प्रदान करती है।

More on this section