कावेरी सीड्स ने तेलंगाना में नये प्रयोगशाला का किया शुभारंभ

भारत की प्रमुख बीज कंपनियों में से एक कावेरी सीड्स ने तेलंगाना के पामुलपर्थी में अपनी अत्याधुनिक जैव प्रौद्योगिकी प्रयोगशाला का शुभारंभ किया। यह पहल कृषि उत्पादकता में सुधार लाने के उद्देश्य से अपनी आरएंडडी और नवाचार क्षमताओं को बढ़ाने के लिए किया गया है।

"सेंटर फॉर एप्लाइड जीनोमिक्स एंड सीड टेक्नोलॉजी" नाम की प्रयोगशाला में नवीनतम बुनियादी ढांचा होगा और यह सभी फसलों के लिए गुणवत्ता के संकर बीजों को विकसित करने पर ध्यान केंद्रित करेगा।

कंपनी के एक अधिकारी ने कहा कि हमें अपनी नई प्रयोगशाला से अनुसंधान और विकास क्षमताओं को मजबूत करने में मदद मिलेगी। हम उन्नत प्लांट ब्रीडिंग विधियों के साथ जैव प्रौद्योगिकी उपकरणों का उपयोग करने के लिए वैज्ञानिक विशेषज्ञता वाली शीर्ष कंपनियों में से हैं। हमारा हमेशा से ही नया करने का हमारा प्रयास रहा है।

कावेरी बीज की अनुसंधान और विकास गतिविधियां समर्पित वैज्ञानिकों और शोधकर्ताओं द्वारा संचालित की जाती हैं जो इसके विभिन्न अनुसंधान और विकास केंद्रों और प्रजनन स्थलों पर काम करते हैं। कावेरी सीड्स का बीज उत्पादन कार्यक्रम है जिसमें किसानों की विविध आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए 12 कृषि जलवायु क्षेत्रों में फैले 65,000 एकड़ भूमि पर 100,000 उत्पादन उत्पादकों को शामिल किया गया है। यह प्रयोगशाला कावेरी सीड्स को अपने नेतृत्व की स्थिति को मजबूत करने और विकास को बढ़ाने में मदद करेगी।

कावेरी एकमात्र कंपनी है जिसके पास कपास, मक्का, बाजरा, सब्जियां और चावल के फुटप्रिंट हैं, और श्रेणियों में संकर बीजों में सबसे बड़ी पाइपलाइन भी है।

More on this section