कावेरी सीड किसानों के लिए समर्पित

तेलंगाना स्थित कावेरी सीड कंपनी लिमिटेड के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक, जीवी भास्कर राव ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि कावेरी सीड का व्यवसाय इस वर्ष भी मिलाजुला रहेगा। अगले कुछ वर्षों में कपास बनाम अन्य बीजों के मुकाबले, धान और सब्जियों के बीजों से लगभग 60 प्रतिशत और कपास से 40 प्रतिशत व्यापार होने की संभावना है। 15,000-करोड़ के संगठित हाइब्रिड बीज बाजार में, कंपनी 8-10 फीसदी का कारोबार करती है।

उन्होंने कहा कि हम मानते हैं कि कपास बीज बाजार कुछ हद तक संतृप्ति बिंदु पर पहुंच गया है, जहां हमारे पास एक प्रमुख बाजार हिस्सेदारी है। अपने व्यवसाय को और मजबूत करने के लिए, हम गैर-कपास क्षेत्रों में अपने व्यापार का विस्तार करने की उम्मीद करते हैं। इनमें धान और सब्जियां शामिल हैं, जो विकसित होने और विस्तार करने के बड़े अवसर प्रदान करते हैं।

लगभग एक दशक पहले स्थापित यह कंपनी 20 प्रतिशत से अधिक की वार्षिक वृद्धि दर पर बढ़ रही है। पैदावार में सुधार पर बढ़ते फोकस को देखते हुए कंपनी का मानना है कि धान, मक्का और सब्जियों के बीज का कारोबार बड़ा हो जाएगा। कंपनी का ध्यान अन्य लोगों के बीच सब्जियों में मिर्च, टमाटर, बैगन उगाने पर है।

कावेरी सीड कंपनी के पास बीज उत्पादन के लिए 65,000 एकड़ से अधिक जमीन है जहां बीज उगाने से लेकर उन्हें प्रसंस्कृत व पैकेजिंग किया जाता है। कंपनी के पास 35,000 से अधिक डीलर्स का विशाल नेटवर्क है। सी मिथुन चंद, कार्यकारी निदेशक, ने कहा कि कंपनी का अधिकांश राजस्व घरेलू बिक्री से उत्पन्न होता है, बांग्लादेश और दक्षिण-पूर्व एशिया में 2.5 से 3 प्रतिशत का निर्यात होता है।

भास्कर राव ने कहा कि हमारी कंपनी किसानों की कंपनी हैं जो किसानों के लिए काम करती है। उन्होंने मानसून के बारे में कहा इस वर्ष मानसून सकारात्मक रहने की संभावना है। हम आशा करते हैं कि यह वर्ष अच्छा होगा। इसलिए बुआई सामान्य होने की उम्मीद है लेकिन पैदावार मानसून पर निर्भर होगी।

More on this section