इफको ने लॉन्च किया नैनो फर्टिलाइजर

प्रमुख उर्वरक कंपनी इफको ने रासायनिक उर्वरकों के उपयोग को कम करने और किसानों की आय को बढ़ाने के प्रयासों के तहत अपने 'नैनो-प्रौद्योगिकी' आधारित उत्पादों - नैनो नाइट्रोजन, नैनो जिंक और नैनो कॉपर को पेश किया है।

इफको ने एक बयान में कहा कि ये नैनो फर्टिलाइजर पर्यावरण के अनुकूल उत्पाद हैं जो भारत में पहली बार पेश किए जा रहे हैं। ये पारंपरिक रासायनिक उर्वरकों के उपयोग को 50-30 प्रतिशत तक कम करने के अलावा फसल उत्पादन को 15-30 प्रतिशत तक कम करने की क्षमता रखते हैं। साथ ही प्रभावी रूप से पौधों को पोषक तत्व पहुंचाते हैं, मिट्टी के स्वास्थ्य में सुधार करते हैं और ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन में कटौती करते हैं।

लॉन्चिग के अवसर पर मनसुख मंडाविया, केंद्रीय जहाजरानी राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार), केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री, रसायन और उर्वरक; परषोत्तम रूपाला और गुजरात के उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल समेत पद्म श्री पुरस्कार से सम्मानित 34 किसानों सहित भारत के प्रत्येक राज्य से अनेकों प्रगतिशील किसान इस कार्यक्रम में उपस्थित थे।

इफको के प्रबंध निदेशक यू एस अवस्थी ने कहा कि लॉन्च के पहले चरण में इन उत्पादों को आईसीएआर / केवीके के समर्थन से नियंत्रित परिस्थितियों में खेतों पर परीक्षण किया जाएगा। यह कदम निश्चित रूप से 2022 तक किसान की आय को दोगुना करने के लिए हमारे प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी जी के दृष्टिकोण का पूरक होगा।

नैनो-नाइट्रोजन, जिसे यूरिया के विकल्प के रूप में विकसित किया गया है, में यूरिया की आवश्यकता में 50 प्रतिशत की कटौती करने की क्षमता है। केवल 10 ग्राम नैनो-जिंक एक हेक्टेयर भूमि के लिए पर्याप्त होगा और एनपीके उर्वरक की आवश्यकता को 50 प्रतिशत कम करेगा।

नैनो-कॉपर पौधे को पोषण और सुरक्षा दोनों प्रदान करता है। अवस्थी ने कहा कि यह हानिकारक रोगाणुओं के खिलाफ पौधों की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है और पौधे के विकास हार्मोन की गतिविधि को बढ़ाने और समग्र पौधों के विकास और विकास में सुधार करता है।

More on this section