महिको के प्रयास से बच्चों को मिलेगा पोषक भोजन

महाराष्ट्र के गवर्नर भगत सिंह कोशियारी ने महाराष्ट्र के जालना में पदम भूषण डॉ. बद्रीनारायण बारवाले केंद्रीयकृत रसोई" का उद्घाटन किया। यह कार्य कृषि क्षेत्र की जानी-मानी कंपनी महिको के सहयोग से किया गया। इस मौके पर जालना की नगर अध्यक्ष संगीता गोरन्याल, स्कूल के सभी बच्चे, महिको मोन्सेंटो बायोटेक के प्रतिनिधि और अन्नमृता फाउंडेशन के अधिकारी मौजूद रहे। महाराष्ट्र के सार्वजानिक स्वस्थ एवं परिवार कल्याण मंत्री रावसाहेब दानवे ने विडियो के माध्यम से अपना सन्देश किया।

लगभग एक एकड़ भूमि में फैले 'पद्म भूषण डॉ. बद्रीनारायण बारवाले सेंट्रलाइज्ड किचन में 50,000 से अधिक बच्चों को मध्याह्न भोजन परोसने की क्षमता और खाद्य सुरक्षा मानकों, आईएसओ कॉम्पैक्ट्स का पालन करने की क्षमता है। रसोई में एक यांत्रिक कन्वेयर, स्वचालित हॉपर, खाना पकाने वाले एवं  इडली यूनिट, सब्जी काटने के उपकरण उपलब्ध हैं, जिससे पूरे खाना पकाने की प्रक्रिया में स्वच्छता और सुरक्षा बनी रहती है। बच्चों के लिए पौष्टिक भोजन सुनिश्चित करने के लिए रसोई में खाद्य परीक्षण प्रयोगशाला भी है।

इस मौके पर महिको के चेयरमैन राजेंद्र बारवाले ने कहा कि 50 वर्षों से, महिको समाज एवं समुदाय के कल्याण के लिए काम कर रहा है। हम अन्नमृता फाउंडेशन के साथ मिलकर समाज की भलाई का काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा की यह कार्य जालना जिले के हजारों स्कूली बच्चों को पौष्टिक मध्याह्न भोजन प्रदान करेगा और इससे क्षेत्र में कुपोषण को कम करने में मदद मिलेगी।

दोनों संस्थाओं द्वारा संचालित 'स्कूल पोषण परियोजना' के जरिए 'पद्म भूषण डॉ. बद्रीनारायण बारवाले सेंट्रलाइज्ड किचन का उद्देश्य उन बच्चों को स्वस्थ और संतुलित भोजन देना है, जिनके दैनिक आहार में पौष्टिक भोजन नहीं मिल पाता है। इस मौके पर अन्नमृता फाउंडेशन, महाराष्ट्र के सलाहकार डॉ. राधा कृष्ण दास ने कहा कि हमारा उद्देश्य बच्चों को एक बहुमुखी मेनू और एक महीने में एक बार पनीर भी  प्रदान करना हैं। हम एमएमबी गोल्डन जुबली एजुकेशन सोसायटी के साथ-साथ उनके स्थानीय प्रतिनिधियों और प्रशासन के लिए उनके समर्थन के लिए धन्यवाद देते हैं।

More on this section